bhavna

अलवर के आदर्श नगर दाउदपुर निवासी भावना जिंदल का बचपन मुस्लिम सहेलियों की बीच बिता था. इस दौरान उन्हें 786 से एक गहरा लगाव हो गया. जिसके चलते उन्हें 786 सीरिज के नोटों को एकत्रित करने की आदत लगी. जो लगातार 20 सालों से जारी हैं.

लेकिन अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लिए गये नोट बंदी के फैसले के बाद उन्हें लाखों रूपये के 786 सीरिज के नोटों को बदलवाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा हैं. भावना के पास 786 नंबर के 500 रुपए के 200 नोट, 100 रुपए के 250 तथा एक हजार रुपए के 75 नोट हैं.

और पढ़े -   झारखंड: पीट-पीट कर हत्या करने के मामले में सात और गिरफ्तार, कुल 26 लोग गिरफ्तार

बचपन से लगे इस शौक में पहले तो पिता ने पूरी सहायता की बाद में शादी के बाद ससुराल में पति और सास की तरफ से भी पूरा सहयोग मिला. शौक का आलम ये था कि अगर पडोसी, दोस्तों और रिश्तेदारों में अगर किसी के पास 786 का नोट आता तो वह भावना को दे जाता.

भावना के अनुसार उन्होंने इस दौरान कभी  भी अपने पास आए 786 सीरिज के नोट को वापस जाने नहीं दिया भावना के अनुसार ’20 वर्षों से मैंने कभी भी 786 का नोट खर्च नहीं किया. कई बार बाजार में गई और कोई सामान या साड़ी पसंद आई, लेकिन पर्स में एेसा नोट होने पर भी उसे खर्च नहीं किया.

और पढ़े -   मुंबई कमिश्नर पडसलगीकर ने पुलिस फ़ोर्स में मुसलमानों की कमी पर व्यक्त की चिंता

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE