उत्तरप्रदेश में योगी सरकार के आने के साथ ही दलितों ने उत्पीड़न का हवाला देते हुए हिंदू धर्म त्यागने का जो सिलसिला शुरू किया है. वो खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. अब सहारनपुर के गांवों सौ से ज्यादा दलित परिवारों ने हिंदू धर्म को त्याग कर बौद्ध धर्म को अपनाने की बात कही है.

ठाकुर दलितों के बीच संघर्ष के बाद से ही यूपी पुलिस पर दलितों के खिलाफ एकपक्षीय कारवाई के आरोप लगते आये है. सहारनपुर के नजदीक रुपडी, कपूरपुर, लाघरी और उनाली गांव के दलितों ने इसी के चलते हिंदू धर्म को छोड़ देंने का फैसला किया है.

और पढ़े -   देशभक्ति के झूठे प्रमाण-पत्र बांट कर देशभक्ति की व्याख्या बदलने की कोशिश: तुषार गांधी

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद रावण की गिरफ्तारी से नाराज दलितों ने कहा कि हम विरोध के रुप में यह बड़ा कदम उठा रहे हैं, क्योंकि पहले ठाकुरों ने हमला किया और हमारी आजीवन कमाई को जला दिया. हमने उनसे केवल यही तो कहा था कि संत रविदास का सम्मान करें और शब्बीरपुर में जोर से संगीत न बजाएं.

फिर योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार विरोध करने पर हमारे ही खिलाफ कार्रवाई करती है. वह खुद ठाकुर हैं. हमें कब तक चुप रहना होगा? चुनाव के समय आप हमें हिंदू कहते हैं और उसके बाद आप हमें गुलामों की तरह व्यवहार करना शुरु कर देते हैं.

और पढ़े -   योगी राज: गरीब और कुपोषित बच्चों का मिड-डे मील गायों को खिलाया जा रहा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE