मुंबई: पुणे में एक दलित लड़के को जिंदा जलाने के मुद्दे ने मजहबी और सियासी रंग ले लिया है। झगड़ा बैटरी चुराने के आरोप से शुरू हुआ था, लेकिन एक वीडियो वायरल होने के बाद मामले ने मजहबी रंग ले लिया, जिसमें पीड़ित कथित तौर पर यह कहते हुए दिख रहा है कि आरोपियों ने पहले उससे उसका मजहब पूछा और फिर उसे जला दिया।

पुणे : दलित लड़के को जिंदा जलाने के मुद्दे ने लिया मजहबी और सियासी रंगमामला 13 जनवरी का है, जब मृतक सावन राठौड़ पर पुणे के कजबापेठ इलाके में तीन लोगों ने हमला किया। सावन कचड़ा बीनता था, लेकिन आरोपियों ने उस पर कार की बैटरी चोरी करने का आरोप लगाया, फिर उसके साथ कथित तौर पर मारपीट की और बाद में उसे आग के हवाले कर दिया। सावन को गंभीर हालत में पुणे के ससून अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां 15 जनवरी को उसकी मौत हो गई।

और पढ़े -   मिलिए मकबूल अहमद से जो 300 गरीब लोगों को कराते है रोजाना निशुल्क भोजन

रिश्तेदार ने लगाए आरोप
सावन के दूर के रिश्तेदार और पेशे से वकील रमेश राठौड़ ने कहा, ‘मैं अपने समुदाय के कुछ लोगों के साथ रात 11.30 बजे अस्पताल पहुंचा और उसका आखिरी बयान रिकॉर्ड किया। मैंने पूछा तुम्हारे साथ क्या हुआ उसने कहा कि उससे एक आदमी ने पूछा तुम्हारा नाम क्या है, उसने अपना नाम बताया, तो उसने कहा तुम हिंदू हो, तब उसने कहा हां, फिर अपने दो साथियों के साथ उसने सावन पर कुछ छिड़का और आग लगा दी।

और पढ़े -   कानून व्यवस्था पर बदले योगी सरकार के सुर, नहीं बना सकते उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त

सावन के समुदाय के लोग इस मामले में पुलिस से खफा हैं। उनका कहना है कि सावन के आखिरी बयान को तीनों गिरफ्तार आरोपियों इमरान, ज़ुबैर तंबोली और इब्राहिम शेख के खिलाफ सबूत माना जाए।

पुलिस ने कहा बैटरी चोरी का है मामला, सबूत मौजूद
इस पर पुलिस का कहना है, ‘ये मजहबी हिंसा नहीं है, बल्कि पूरा विवाद सावन के कथित तौर पर बैटरी चुराने के आरोपों से जुड़ा है। हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद हम मामले में आगे की जांच कर रहे हैं।’

पुणे में जोन-1 के डीसीपी तुषार जोशी ने कहा,  ‘हमारे पास सबूत हैं कि पीड़ित को 2-3 जगह ले जाकर इस बात की पुष्टि कराई गई कि वो कार की बैटरी चुराता था, फिर उसे एक सुनसान जगह पर ले जाकर आग के हवाले कर दिया गया। हमारे पास गवाहों के बयान हैं जो इस बात की पुष्टि करते हैं।’

और पढ़े -   हिंसा के बाद योगी सरकार आई हरकत में, आला आधिकारी सस्पेंड, धारा 144 के साथ इंटरनेट पर रोक

शिवसेना भी कूदी
उधर मामले ने सियासी रंग भी ले लिया है। शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि पुणे में सावन राठौड़ की हत्या हिंदू होने की वजह से की गई। क्या ये असहिष्णुता नहीं है, लेकिन कोई नहीं बोल रहा है। उधर इस मुद्दे पर बंजारा क्रांति दल ने सोमवार को पुणे में प्रदर्शन का ऐलान किया है। (NDTV)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE