21-year-old Ansar Ahamad Shaikh, who cracked UPSC at his first attempt ranking 361 congratulated his tutor Rahul Tukaram Pandve who also cleared the UPSC with rank 200. Express photo By Sandeep Daundkar,Pune,10.05.2016
21-year-old Ansar Ahamad Shaikh, who cracked UPSC at his first attempt ranking 361 congratulated his tutor Rahul Tukaram Pandve who also cleared the UPSC with rank 200. Express photo By Sandeep Daundkar,Pune,10.05.2016

सभी मुश्किलों से लड़ते हुए, ऑटोरिक्शा ड्राईवर के 21 वर्ष के बेटे, अंसार अहमद शेख ने अपनी काबिलियत के दम पर पहले ही प्रयास में यूपीएससी एग्जाम में 361 रैंक प्राप्त की है. पुणे के फेर्गुस्सन कॉलेज से पोलटिकल साइंस में बैचलर डिग्री हासिल की तथा पुणे आने का मकसद ही यूपीएससी की तैयारी करना था.

कोहराम न्यूज़ को मिली जानकारी के अनुसार पुणे में रहने के लिए जगह और खाने के लिए अपना नाम और पहचान बदलकर रहना पड़ा. अंसार कहते है की अब वो गर्व से अपना नाम सबको बता सकते है.

“मुझे बहुत अच्छे से याद है जब हम लोग पीजी ढूंढने के लिए गये थे तो मेरे सभी हिन्दू दोस्तों के रहने की जगह मिल गयी थी और मुझे मना कर दिया गया था.इसीलिए अगली बार मैंने अपना नाम शुभम बताया जो की असल में मेरे दोस्त का नाम था, लेकिन अब मुझे अपना नाम छुपाने की ज़रूरत नही है”

और पढ़े -   क्या सच में रोहिंग्या मुसलमान इंसानी मांस खाते है ? जानिये सच्चाई

अपनी परेशानियों को याद करते समय उनकी आँखों से आंसू निकलने लगता है भरे गले से उनकी हलकी सी आवाज निकलती है

“मेरे पिता की तीन पत्नियाँ थी, मेरी माँ दुसरे नम्बर की थी. मेरी फॅमिली में पढाई लिखाई इतनी ज्यादा ज़रूरी नही थी.मेरे छोटे भाई ने पढाई स्कूल में ही छोड़ दी थी और मेरी दो बहने की छोटी उम्र में ही शादी कर दी गयी थी वो भी अधिक नही पढ़ पाई.जब मैंने घर वालो को बताया की मैंने यूपीएससी एग्जाम पास कर लिया है तब मेरे घरवालो ने कोई भी प्रतिक्रिया नही दी लेकिन जब मैंने कहा की मैंने एग्जाम पास किया है जो डिएम के बराबर होता है तो सभी चौंक पड़े और हम सब लोगो ने छोटा सा सेलिब्रेशन किया.

और पढ़े -   क्या सच में रोहिंग्या मुसलमान इंसानी मांस खाते है ? जानिये सच्चाई

अपनी तैयारी के बारे में बताते हुए अंसार कहते है की सफलता का कोई भी शॉर्टकट नही होता. लगातार 10-12 घंटे पढाई करना वो भी लगातार 3 वर्षों तक बिना ब्रेक लिए.जब उनसे पूछा गया की देश सेवा किस तरह करेंगे तो उनका जवाब था की जो भेदभाव उन्होंने झेला है उसे समाज से दूर करेंगे. उनका मुख्य ध्यान हिन्दू-मुस्लिम एकता पर रहेगा.

और पढ़े -   क्या सच में रोहिंग्या मुसलमान इंसानी मांस खाते है ? जानिये सच्चाई

यूनिक एकेडेमी जहाँ अंसार ने तैयारी की वहां भी जश्न का माहौल रहा अंसार के टीचर राहुल तुकाराम पन्द्वे भी यूपीएससी में 200 रैंक ला चुके है.Civil Services Result – इस बार 34 मुस्लिम कैंडिडेट्स ने चखा सफलता का स्वाद

UPSC rank holder speaks his mind: ‘I am Shaikh, not Shubham, can tell everyone now’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE