कोहराम न्यूज़ डेस्क – दुनियाभर के मुसलमानों में मदीना में मस्जिद-ए-नबवी के पास हुए बम ब्लास्ट को लेकर रोष व्याप्त है. ब्लास्ट की खबर जैसे ही आम हुई वैसे ही कुछ लोगो ने इसे सिलिंडर ब्लास्ट कहकर अफवाह फैलानी शुरू कर दी जिसे खुद सऊदी सरकार ने विराम लगाते हुए कहा है की यह आत्मघाती हमला था.

सोमवार को सऊदी अरब के सबसे पवित्र स्थान मदीना की मस्जिद-ए-नबवी सल्लल्लाहो अलेह वसलल्लम के पास मुख्य सुरक्षा सेंटर पर हुए आत्मघाती हमले में चार सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गयी हैं, साथ पांच लोग घायल हुए हैं.

मदीना की मस्जिद-ए-नबवी सल्लल्लाहो अलेह वसलल्लम में होने वाला हमला, सऊदी अरब में सोमवार को होने वाले हमलों में से तीसरा हमला था. जबकि पहला बम धमाका जेद्दाह में अमेरिकी दूतवास के निकट हुआ था और दूसरा आत्मघाती विस्फोट क़तिफ़ शहर में हुआ था.

4136044525873257
आत्मघाती हमले के बाद मदीना मस्जिद में नमाज़ अदा करते प्रिंस फैसल बिन सलमान

सोशल मीडिया पर जारी की गयी तस्वीरों से यह पता चल रहा है कि मस्जिद-ए-नबवी सल्लल्लाहो अलेह वसलल्लम के बाहर से धुआं उठ रहा है.

Screenshot_4

ट्विटर पर इस बात की पुष्टि करते हुए सऊदी के आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि, “हमलावर को मस्जिद-ए-नबवी सल्लल्लाहो अलेह वसलल्लम की तरफ जाने से रोकने के प्रयास में चार सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए जबकि पांच घायल हैं.”

अधिक्तर, रमज़ान के आखिरी अशरे में पूरे विश्व से लोग मस्जिद-ए-नबवी सल्लल्लाहो अलेह वसलल्लम में रौज़ा-ए-रसूल की ज़ियारत करने आते हैं. यह धमाका सूरज के डूबने से पहले उस वक़्त हुआ जब लोग रोज़ा खोलने की तैयारियों में व्यस्त थे.

साउथ अफ्रीकी के 36 वर्षीय ईमाम करी ज़ियाद पटेल ने बताया कि अज़ान बस खत्म होने वाली थी के मैंने बम धमाके की आवाज़ सुनी मैं उस वक़्त मस्जिद के अंदर मौजूद था. पहला मुझे लगा कि यह कुछ बस ऐसा ही साउंड हैं पर बाद में इस बात का अहसास हुआ.

इस्लाम धर्म के ऐतबार से यह मस्जिद मक्का की मस्जिद अल-हरम (जहां पर काबा मौजूद हैं) के बाद दुनिया में सबसे पवित्र स्थान हैं.

Screenshot_3

इस हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए ईरान के विदेश मंत्री जावेद ज़रीफ़ ने ट्विटर के ज़रिये लिखा कि,“अब कोई भी सीमाएं नहीं बची हैं, आतंकियों ने सारी हदे पार कर ली हैं, क्या सुन्नी, क्या शिया इन्होने सभी को अपना निशाना बनाया हैं, हम तब-तक इनका शिकार बनते रहेंगे जब-तक कि हम एक न हो जाये.”

Screenshot_5

दुबई के शेख मुहम्मद बिन ज़ायेद अल-नह्यान ने ट्वीट करके लिखा, “इन खतरनाक हत्यारों से अपने धर्म को बचने के लिए हमको एकजुट होकर लड़ने की ज़रुरत हैं.”

क़तिफ़ बम विस्फोट

Screenshot_3

प्राप्त सूचना अनुसार मदीने में जिस वक़्त बम धमाका हुआ लगभग उसी दौरान क़तिफ़ में शिया मस्जिद के नज़दीक एक बम धमाका हुआ और दूसरा आत्मघाती हमला गल्फ कोस्ट पर हुआ.

जानकारी के मुताबिक वह पर मौजूद लोगो ने बताया कि एक आत्मघाती हमलावर ने मस्जिद के करीब अपने आप को बम से उड़ा लिया. लेकिन इस हादसे में किसी का कोई भी नुक्सान नहीं हुआ. एक न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक वह मौजूद नसीमा अल-सदा ने एजेंसी को बताया कि, “एक हमलावर ने मस्जिद के पास जाकर अपने आप को बम से उड़ा लिया”.

जबकि एक दुसरे विटनेस ने एजेंसी को बताया कि मस्जिद के पास खड़ी एक कर में धमाका हुआ. फ़िलहाल अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली हैं.

Screenshot_1

इससे पहले सोमवार की सुबह जेद्दाह शहर में स्थित अमेरिकी दूतवास के निकट एक आत्मघाती बम विस्फोट मे दो सुरक्षाकर्मी घायल हो गए.

पिछले वर्ष जनवरी में भी शिया मस्जिद के इलाके में इसी तरह का एक बम विस्फोट हुआ था जिसमे चार लोगो की मौत हो गयी थी. वही अक्टूबर में नजरन में एक शिया मस्जिद में धमाका हुआ जिसमे एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी, इस हमले की ज़िम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली थी.

2015 में आभा शहर में स्थित पुलिस फ़ोर्स मुख्यालय में आतंकी हमला हुआ था जिसमे 15 लोगो की मौत हो गयी थी, इस हमले की ज़िम्मेदारी भी इस्लामिक स्टेट ने ली थी.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें