न्यूयॉर्क: यहाँ माराकेच इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में शरीक हुए अमेरिका के जाने माने फिल्मकार फ्रांसिस फोर्ड कोप्पोला ने यहाँ प्रेस कॉन्फ्रेंस में क़ुरान शरीफ की आयतें इतने दिलकश अंदाज में सुनाई की सभी की आँखें भर आयीं।

रिपोर्ट के मुताबिक फ्रांसिस 9 मैम्बरी ज्यूरी कमेटी के प्रधान थे और ताजा हालातों और सिनेमा  से जुड़े एक सवाल का जवाब लोगों को दे रहे थे। जवाब में उन्होंने  जिस तरीके से इस्लाम की गहराइयों से जुडी आयतों का मतलब लोगों को समझाया उससे लोगों का दिल भर आया।

और पढ़े -   क्या सच में रोहिंग्या मुसलमान इंसानी मांस खाते है ? जानिये सच्चाई

Francis-Ford-Coppola

फ्रांसिस ने लोगों को सुरह अल फातिहा के बारे में बताया जिसमें सबको अमन से रहने , रहम करने, सहन करने और प्यार देने की बात कही गयी है।

फ्रांसिस ने कहा: “अगर आप क़ुरान पढ़ें तो आपको सबसे पहले शब्द : उस दयावान, सबसे ऊंचे और सबको प्यार करने वाले और सबको ख्याल रखने वाले परमात्मा के नाम के नाम लिखा हुआ मिलेगा, कोई भी आदमी जो इस्लाम को अच्छे से समझता है जानता है की 13वीं सदी में दुनिया का सबसे सभ्य और सबसे खूबसूरत धरम इस्लाम धर्म ही था। इस्लाम की सबसे जरूरी और बुनियादी बातें : भगवान सबसे ऊंचा है और सबसे दयापूर्ण है ही हैं, हमे अल्लाह पर यकीन है कि वह लोगों के दिलों में पैदा गलतफहमियों को दूर करेगा ”

और पढ़े -   क्या सच में रोहिंग्या मुसलमान इंसानी मांस खाते है ? जानिये सच्चाई

फ्रांसिस की बातों ने सभी की आँखों में आंसू ला दिए और माहोल में जैसे अजब सी शांति छा गयी। फ्रांसिस उन चुनिंदा 6 लोगों में से हैं जिन्हे अपने काम के लिए ऑस्कर अवार्ड से नवाज़ा गया है। (hindi.siasat.com)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE