कोहराम न्यूज़ नेटवर्क – इस समय दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती अगर कुछ है तो वो है आतंकवाद और आतंकी संगठन. ईराक तथा सीरिया में इस्लाम के नाम पर isis जैसा बर्बर संगठन जो घिनौने काम कर रहा है उससे कहीं ना कहीं इस्लाम और मुसलमान की छवि को नुक्सान ज़रूर पहुंचा रहा है.हालाँकि सर्वविदित है की इस्लाम का मतलब शांति की स्थापना है. “शांति से जियो और जीने दो” को माने वाले इस्लाम में अचानक से हथियारबंद,आत्मघाती,बच्चो के क़त्ल करने वाले,मस्जिद मज़ार को शहीद करने वाले कहाँ से आ गये ? क्या इस्लाम का मतलब ही मार काट है, क्या इस्लाम के मानने वाले किसी दुसरे धर्म या संप्रदाय को बर्दाश्त नही कर सकते,क्या इस्लाम अपनी विचारधारा से विपरीत विचारधारा के अनुयाइयो को मारने का हुक्म देता है ? क्या इस्लाम नाबालिग बच्चो के क़त्ल का हुक्म देता है, तो फिर ये कौन लोग है जो ‘अल्लाह हु अकबर’ का नारा लगाकर महिलाओं,बच्चो और बुजुर्गो को भी नही बख्श रहे ??

kohram news question

इन्ही सारे सवालो को लेकर कोहराम न्यूज़ नेटवर्क ने अपने पाठको से एक सवाल पूछा था

” क्या isis,तालिबान और अल-क़ायदा इस्लाम की सही तस्वीर पेश करते है ?

इस सवाल में देश भर के 500 से अधिक पाठको ने भाग लिया तथा सभी लोगो का एक ही जवाब था “नही” ये इस्लाम की विचारधारा के विपरीत है, जिस एक सुर में भारत के मुसलमानों ने आतंकवाद को नकारा है वो काबिले तारीफ है

चूँकि सवाल का जवाब देने वाले पाठको की संख्या अधिक थी तथा बहुत से लोगो के जवाब एक जैसे थे इसीलिए हम यहाँ चुनिन्दा जवाबो को ही शामिल कर रहे है

जो जवाब सबसे अधिक पसंद किया गया वो तारिक अनवर का था जिनके अनुसार “Ye wichardhara islam ka nhii hai,balke yhudiyo ka hai.duniya ka itihash uthaa kar dekh lo.Islam to jung me bhi dushman ke bachho ,budho,aorto or tree ko katne se rokta hai wo majlumo par humla kbhi nhi karne ko kah sakta hai.”

वहीँ राजेश पाण्डेय के कहना है की “अच्छा लगा आप लोगो का कमेंट देख कर.. सही है यह लोग इंसानियत के दुश्मन है फिर भी हमारे देश में कई युवा उनके तरफ आकर्षित हो रहा है .. आप जैसो को ही इनके भटकाव को रोकना होगा ..जय हिन्द “

वहीँ मोहम्मद सुहैल का कहना है की ये संगठन यहूदियों और ईसाईयों का है जो इस्लाम को मिटाने और बदनाम करने की कोशिश कर रहे है

 फैसल अकरम खान कहते है की पहले इस्लाम को खुद से जानो तब पता चलेगा की इन्टरनेट पर एंटी इस्लाम सामग्री अधिक है इसीलिए किताबें पढो और सही इस्लाम को समझो

सैय्यद वजेह रिज़वी अल कादरी  के अनुसार  सही तस्वीर की बात करते हो ? यह कहो कितना बदनाम कराया है इन संगठनो ने ! अब अगर मैं कह दूंगा यह सलाफी/वहाबी ही हैंजिनकी यह सब करतूते हैं तो कुछ मेरे भाइयों को बुरा लग जायेगा !

अल्ताफ सिद्दीकी ने अच्छा जवाब देते हुए लिखा की “कुरान की बातें इन सब से अलग है और जो लोग कुरान की राह पर  चलते है वो मुसलमान है isis तालिबान जैसे संगठन इस्लाम से परे है इनका कोई मज़हब नही है ये दहशतगर्द है”

दावत-ए-तबलीग – ये एक सोची समझी साजिश है जो मुसलमानो मे आपस मे फूट डलवाने कि साजिश हे जो बिकाउ मोलवीयो के द्वारा पूरी की जा रही है। अल्लाह हम को दीन कि सही समझ अता फरमाए।

Moinuddin Ahmad Jahangir -Yeh log Islam ke naam par kalank haen. Islam ki taleemat ke khelaf har kaam karte haen. Is group ko Yahudi lobby control karrahi hae. Hamen apne bachchon ko iske jaal mein phansne se har haal mein bachana hoga.

Md Kaish Isisi wale to Muslim hai hi nahi ye America aur Israel ka sochi samjhi sajish hai. Ki kalme wale jande lekar aur Allah ho Akbar ka nara laga kar bekashor logo ko marna. Agar we log Muslim hote to Israel se jang karte jaha pe philistine ke awam ko yahudi shahid kar rahe. Agar we log Muslim hote to barma me lakho muslimo ko budhisto ne katal kar diya. Wa ha jakar jang karte. Muslim ko hi mar rahe hai aur ulta inhi logo ko aatankbadi kah rahe hai. Sochne wali bat hai.

Allauddin Ahmed Bismillah Bilkul nahin aur aisei aatanki gatvidhiyon aur insaniyat soze kam ki ijazat Islam mein qatai nahin, aur yeh ibadstgahon pe hamle toaba Allah khair kare..yeh to gair Islami shewa hai Islam mein iski gunjaish kahan

Abdul Haleem Quraishi dekhiye aap ke sawaal ka jawab hai” bilkul nahi”, koi bhi sangathan ho jo begunaho ka khoon bahaye woh islam kya kisi bhi dharm se talluk nahi rakhta, bal ki yeh islam ko badnaam karne ki sazish hai yahudiyon ki.

Shamshad Alam Ye Islam ka vichardhara kabhi nahi ho sakta Jis Islam me chunti ko bhi jalane se mana kiya gaya ho apne padosi ka khayal rakhne ko kaha gaya ho wahi ye log usi islam k naam pr insano ko jala dete hai aur bekasur logon ki jaan lete hai to kaise ye islam k manne wale ho sakte hai ye Islam ko nuksan pahunchane wale darinde log hai inke andar insaniyat hi nahi to ye musalman kaise ho sakte hai

MuradRazakhan Pathan Nahi bilkul nahi is ka islam se koi wasta nahi. Agar ye waqai islam k chahne wale hote to begunahon ka khoon na bahate. Apne aslaf (buzurgon) ki talimaat ko faramosh nahi karte. Main to samajhta hoon k in ko islam ki sahi talim ki zaroorat hai…

Khan Shahid Mohd Saeed Isis se jod ke Islam ko bad naam met kero kyu ki Islam kabhi bhi be gunah ko satane ya marne ke ijazat nahi deta hai Aur raha sawal Islam ki sahi tasveer dikhane ka to puri duniya me mulim aur Islam ko bad naam ker rahe hain

DrMohd Nazim Qureshi isis से इस्लाम का कोई लेना देना नहीं हे यह इस्लाम को बदनाम करने वाले लोग हें इस्लाम में आतंकवाद की कोई जगह नहीं हे यह प्रो इसराइल जमात हे जो इस्लाम को बदनाम कर इस्लामिक मुमालिक को ही तबाह कर रहे हैं

Raaz Haroon Isis वाले ईसलाम नही है बल्कि इस्लाम के दुश्मन है ईसलाम के चोला झोला पहन कर आतंकवाद मचाये हुआ है हम सभी हिन्दू मुस्लिम एक होकर लडना होगा इनसे

Mohd Danish इस विचार धारा को वहाबी विचार धारा कहते हैं इन आतंकवादियो को पैसा सऊदी अरब कतर कुवैत संयुक्त अरब अमीरात दे रहे हैं पूरी दुनिया इस बात को जानती हैं इन आतंकवादियो का मकसद सिर्फ और सिर्फ वहाबी विचार धारा को बङाना है

Tanwir Alam ISIS Arabic: إِسْرَائِيل Isrāʼīल है ईसिस इसका मतलब होता है दुन्या में सिर्फ इसराइल का झंडा दिखिदेना। …aap को मालूम है सभी ने इसराइल को पानी पिने पर मझबूर किया था और आज दुन्या को इस्लाम का कपड़ा डाल कर अपना बदला लेता हुवा सभी को धूल चाटने पर मझबूर कराना

Mogāl Istiyāk नहीं, हरगिज़ नही, मेरा इस्लाम इसकी इजाजत नहीं देता, और जिहाद का ये लोग गलत मतलब निकाल रहे है, #अपनी_माँ_के_पैर दबाना भी एक जिहाद हे, किसी ग़रीब को खाना खिलाना भी एक #जिहाद है, I condem this Terrorism..

हमें अपने बच्चों को पढाना हे ओर साथ ही अपने देश की महोब्बत अपने मज़हब के बराबर देनी है,

जय हिन्द,

Razavi Noori Nahi Ye wahabi vichardhara pesh krti he deobandi vichardhra pesh krti he Islam Se koi lna dna nhi

Mohammad S Qureshi Al-qaida US ne banaya aur Isis israhell ne . Is Baat k saboot b he . Ab agar logo ko chhik b aye to Islam ko dosh de , ye kaha tak sahi he ? Jabki usi US ne ab tak japan,Korea,Vietnam, Iraq,Afghanistan, syriya me lakho. Maar diye koi Christianity ko nahi kahta . Q ?

Mohsin Khan nahi ye kisi majhab ki tasveer nahi ho sakti ha ye un janvro ki tasveer hai jo insaniyat bhool gaye hai

Abdul Quadir Sidd 2 min. silent for those people think ISIS is part of islam…Israil security Intelligent of service.its the correct name of isis

Md Orooj Mirza Bilkul nahi.Islam aman ka paigham deta hai aur ye log Duniya mein khun baha rahe hain.

Jawed Khan Good question by kohram im saying there is no any relations with isis and taliban bichardhar this is totally against of Islam Islam is a peacefully religion n this is conpricy against islam

Saif Ali Ansari Gajab karte ho yaar, ekdam pagalo wali baat karte ho. Islam kabhi in sab cheezo ki ijazat nahi deta.

Baba Shaikh jo be gunah logo ko mare vo kabhi musalman nahi ho sakte ye yahud aur nasara ki chal hai islam ko badnam karne ki

Sonu Rock Qureshi बिलकुल नहीं, ये तो चंद सिक्कों पर पलने वाले लोग हैं, जो इस्लाम को अपनी जागीर समझ रहे हैं,

Mohammad Kalam Qureshi जमीन पे फसाद फैलाने वाले अल्लाह को पंसद नही है और इनको कत्ल करने का हुक्म है ये सब इस्लाम के खिलाफ काम करते है इनके वजह से इस्लाम का तो नही पर मुसलमान का बहुत नुकसान हुआ है

Haji Nasir Jamal Chishty कत्तई नहीं।
इन लोगों ने प्रोपोगेंडा फैला कर बदनाम करने की कोशिश की है। ये इस्लाम की सही तालीम पर अमल करते तो ऐसा न करते।

Qasim Barkaati ISIS, तालिबान, और अल-कायदा
मुसलमानो ही नहीं बल्कि इस्लाम के खुले दुश्मन है। इनको इस्लाम से जोड़ना इनको मुसलमान केहना इस्लाम और मुसलमानो की तौहीन है। अरे इस्लाम क्या है ये पैग़म्बरे इस्लाम की ज़िन्दगी बताती और मुसलमान क्या हैं ये सहाबा और अहले बैत की ज़िन्दगी बताती है

Naseer Khan isis तालिबान अलकायदा मजारो को बम से क्यू उड़ाते है कोई जानता है इन्हें मजारो से इतनी नफरत क्यू है इन आतंकी संगठनों को कोण सा देश पैसे देता है कभी आपने पता करने की कोशिश की

बाकी जवाब आप इस पोस्ट पर  पढ़ सकते है

आज का सवालक्या आपको लगता है की isis, तालिबान और अल-क़ायदा की विचारधारा इस्लाम की सही तस्वीर पेश करती है ?कमेंट बॉक्स में अपना जवाब लिखे खबर पढ़े – http://139.59.27.62

Posted by Kohram News on Tuesday, February 9, 2016


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें