#रांची #झारखंड रांची में सड़क किनारे हजामत कर परिवार चलाने वाले अशरफ हुसैन उर्दू में पीएचडी कर चुके हैं. इत्‍तेफाक यह है कि उर्दू में काबिल अशरफ अपनी नाई की दुकान भी उर्दू लाइब्रेरी के बाहर फुटपाथ पर ही लगाते हैं.

अशरफ हुसैन 1987 में मैट्रिक करने के बाद इसी जगह पर नाई की दुकान लगा रहे हैं. निगम वाले कई बार इनकी दुकान को उखाड़ चुके हैं, लेकिन उनका हौंसला नहीं टूटा. वे कहते हैं-गरीबी और परिवार चलाने का बोझ इतना भारी होता है कि उसके नीचे सारी बेइज्‍जती और गुस्‍सा दब जाता है.

उन्‍होंने बताया कि उन्‍हें बचपन से ही पढ़ाई का शौक था. घर के आर्थिक हालात खराब होने के चलते कम उम्र में ही हजामती का काम शुरू करना पड़ा. बड़े भाई ने भरी जवानी में साथ छोड़ दिया, जिससे उनके परिवार और बच्‍चों की जिम्‍मेदारी भी मेरे कंधे पर आ गई. इन मुश्‍किल घड़ी में भी अशरफ हुसैन का पढ़ाई से मन नही डोला.

नाईगीरी करते हुए उन्होंने चार साल पहले रांची यूनिर्वसिटी से उर्दू साहित्य में पीएचडी कर ली. इन दिनों वे डी. लिट की तैयारी में लगे हुए हैं. यहां आने वाले ग्राहक बताते हैं कि अशरफ बाल-दाढ़ी बनाते समय गालिब के शेर भी सुनाते हैं.

किताब लिख चुके हैं अशरफ

अशरफ लेखक और आलोचक बनना चाहते हैं. पीएचडी करते हुए उन्होंने झारखंड की उर्दू कथाकारों पर पुस्तक लिखने का विचार किया. इसका डॉ. गुलाम रब्बानी और सरवर साजिद ने समर्थन किया. उनकी हौसला अफजाई पर अशरफ की. इसके बाद झारखंड की नुमाइंदा ख्वातीन अफसानानिगार’ शीर्षक किताब प्रकाशित हुई. यह सूबे की चार अहम महिला अफसानिगारों पर केंद्रित है. इसमें सबूही तारीक, शीरीं नियाजी, कहकशां परवीन और अनवरी बेगम की चुनिंदा कहानियां और उनपर अशरफ की आलोचनात्मक टिप्पणी संगृहित हैं. साभार: hindi.news18.com


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE