कोहराम न्यूज़ नेटवर्क – 5 नवम्बर को कोहराम न्यूज़ पोर्टल ने अपने दर्शकों से NDTV पर लगे एक दिन के बैन को लेकर दर्शकों से विचार प्रकट करने को कहा था जिसमे हजारों की तादात में लोगो ने भाग, मात्र एक ही दिन में 750 लोगो ने कमेंट करके अपनी राय सामने रखी. यूं तो सोशल मीडिया भिन्न भिन्न विचारों का एक संयुक्त समूह है लेकिन शायद रवीश कुमार के जादू का असर कहें तो कहना गलत ना होगा क्यों की लगभग 90 प्रतिशत लोगो ने एक सुर में NDTV पर लगे बैन का ना सिर्फ जमकर विरोध किया बल्कि इसकी तुलना इमरजेंसी से भी की.

एक यूजर किरण लिखतें है की अगर पठानकोट एयरबेस की रिपोर्टिंग करने के कारण ndtv को एक दिन के लिए ऑफ किया जा रहा है तो मोदी सरकार को भी ऑफ किया जाएँ क्योंकी पाकिस्तानियों को बुलाने वाली तो मोदी सरकार ही थी.

कोहराम के इस आमंत्रण पर इतनी अधिक संख्या में कमेंट मिले की सबको अगर यहाँ शामिल कर लिया जाए तो आपको पढ़ने में ही एक घंटे से अधिक अक समय लगेगा, इसीलिए यहाँ सिर्फ चुनिन्दा कमेंट को ही शामिल किया जायेगा तथा अंत में एक लिंक दिया जायेगा जिस पर क्लिक करके आप सभी लोगो के कमेंट पढ़ सकते है तथा अपने विचार नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिख सकते है.

आइये पहले यह देखते है की हमने लोगो से क्या पूछा था.

question

हमने कोहराम न्यूज़ के पाठकों से अपनी राय रखने को कहा था उसमे हमें क्या क्या जवाब मिले वो नीचे प्रस्तुत किये जा रहे है.

Sheikh Arshad कश्मीर से अमन गायब,,सेना से विमान गायब,,पटरी से रेलगाड़ी गायब,,JNU से नजीब गायब,, देश से भाई चारा गायब,,मीडिया से NDTV गायब,,, और क्या विकास चाहिये?

Jawed Siddique Jai Prakash Narayan ki dharti se ek sher ka uday hua hai jo na jhuk sakta hai na toot sakta hai aur nahi bik sakta hai jaise Jai Praksh Narayan ne Emergency ke duaran Indira Gandhi ke samne ghootna tekne se inkar kar diya tha aur sachai ke sath unka muqabla kiya tha. Hats off Ravish Sir. God bless you. We are completely with you.

MD Umran Ansari Ndtv is best news channel.no folse.only true.Ndtv pe dikhaye Jane wali news ko bariki se dekha jaye to sb ko samajh me ayega ki yahi news channel Thik h.ek trfa news nhi dikhata.isliye Modi & Modi bhakto ko mirchi lgi h.aur abhi aur lagegi.raavish ji ko puri janta ssports kr rhi h.

Subroto Chatterje यह निर्भीक, निष्पक्छ पत्रकारिता की ही नहीं प्रजातन्त्र की आत्मा की हत्या है । जो ऐसा कर रहे हैं वे अपनी हार को बहुत आश्वस्त जान पड़ते हैं ।

Guddu Badayu रवीश कुमार जी के लिए,,

अगर बिकने पे आजाओ तो घट जाते है दाम अक्सर, ना बिकने का इरादा हो तो क़ीमत और बड़ती है,,,,

आखिर सरकार ने ये साबित कर दिया के जी उसके हक़ में नही बोलेगा तो उसपर नज़र राखी जाये मुझे लगता है सरकार उन चेन्नल से इतना खुश नही है जो हर वक्त भारत के प्रधान मंत्री को अपनी इस्क्रीन पर दिखाते रहते है बल्कि उस चेन्नल से नाराज़ है जो उसके गलत कामो की आलोचना करना अपना फ़र्ज़ समझता है होना ये चाहिए था के सरकार को ND टीवी चेन्नल से बात करनी थी और भारत सरकार को उनकी कमी बताने वाले से खुश होना चाहिए था कीयू के जो सरकार आलोचना सेने के बाद अपना काम करती है तो उसके काम में निखार आता है यहाँ सरकार के सलाकार धोका खागये और चापलूस लोगो के चंगुल में फस गये,,,,

रवीश कुमार और ND टीवी की पूरी टीम बधाई की हकदार है,,कीयू के उन्हने सबर का दामन नही छोड़ा है,,
रवीश कुमार जी के लिए,,

मुझे यज़ीर करो या मेरी ज़ुबाँ काटो,,

मेरे ख्यालो को तुम बेड़िया पहना नही सकते

Ramesh Chande सब टीवी चेनलो पे बेन लगना चाहिए हंमेशा के लिये अगर सच्चाई बताते हे कयु की मीडिया लोकतंत्र का चोथा पिलर हे इससे लोगो को ओर दुनिया को पता चलेगा भारत मे लोकतंत्र नही हे

Bhagirath Varshi नेताओ के जूते चाटने वाले चैनल्स आज टाप पर पहुंचा दिये है और जो नही झुके उनकी पत्रकारिता छिन ली गई ! यह तो हिटलर जैसा प्रशासन है!
जो पत्रकार सरकार की गुलामी करता है , वह वास्तव में जनता को गुलाम बनाने का काम करता है ! सच्चाई का हमेशा साथ देने के लिए मै हमेशा रविश कुमार जी ओर NDTV के साथ हूँ !
जय भारत – जय लोकतंत्र

Kiran Makwana NDTV के साथ मोदी को भी कुर्सी छोड देना चाहिए ? खबर है कि NDTV को एक दिन के लिए सरकार द्वारा ऑफ़ एयर किया जा रहा है उसके पीछे वजह बताई जा रही है कि पठानकोट एयरबेस हमले के दौरान चैनल की रिपोर्ट्स में बेस के बारे में कई जानकारियां दिखाई गयी जिससे सुरक्षा को लेकर गंभीर खतरा हो सकता था और इस गैरजिम्मेवारी की सजा एक दिन के प्रसारण को बंद करके दी गयी है। बहुत अच्छा है अब उस शख्स को क्या सजा दी जायेगी जिसने पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई को पठानकोट एयरबेस का दौरा करवाया था ?? क्या एयरबेस के दौरे के वक़्त आईएसआई वाले आंख पर पट्टी बांध कर घूम रहे थे…नहीं न…फिर उन्हें बुलाने वाले मोदी को भी कुर्सी छोड देना चाहिए क्योंकि देश की सुरक्षा से खिलवाड कोई नहीं कर सकता ।

Mr’Nuru लोकतंत्र के चार स्तम्भ हैं न्यायपालिका कार्यपालिका विधायिका और मीडिया चौथा स्तम्भ जिसमे से यदि कोई भी स्तम्भ कमजोर पड़ गया तो लोकतंत्र का कोई मतलब ही नही रह जाता और हमारी देश की सरकार माशा अल्लाह कुछ तो आता नहीं चले हैं देश चलाने अरे मोदी जी से कोई पूछकर बता दो कि ये जो लोकतंत्र की बात करते हैं जानकारी भी है के नहीं लोकतंत्र की????

Ismael Raj NDTV पर बैन मेरी नजर में आपातकाल है
जो न्यूज़ चैनल हो या डेली पत्रिका अगर वो अपने जुमेदारी को बखूबी निभाता है ऐसे न्यूज़ चैनल का स्वागत करना चाहीये ना की उसके ऊपर बैन लगाना, आज पूरा देश रवीश कुमार सर जैसे निष्पक्ष रीपोटेर के साथ खड़ा है
और जो भी लोकशाही का चौथा आदर सतंभ है ऐसे न्यूज़ चॅनेल के साथ हम सब साथ है.

Rehmat Ali Khan कश्मीर से अमन गायब,,सेना से विमान गायब,,पटरी से रेलगाड़ी गायब,,JNU से नजीब गायब,, देश से भाई चारा गायब,,मीडिया से NDTV गायब,,, और क्या विकास चाहिये?

Dinesh Topiya जो एनडीए सरकार की चापालूसी ना करे, उनके ऐबो को उजागर करे, उनके कुकर्मो का विरोध करे उसका हाल यही होगा। केजरीवाल सरकार ने विरोध किया तो उनके विधायकों की आये दिन गिर्फ़तारीयां होती हैं, एनडीटीवी ने इनकी चापालूसी नही की तो इनका यह अंजाम हुआ।

जमील देशवाली बोलने की आजादी का गला धोंटकर यह बताया जा रहा है हम आजाद हैं ….
तुम मुंह ना खोलो की हम आजाद है
कोई सवाल ना करो की हम आजाद है
हुक्म है हमारा की चुप रहो हम आजाद है

Satish Sharma अपनी नाकामयाबी छुपाने के लिये ये सरकार किसी भी हद तक जा सकती है इनको जनता के सवाल पसंद नहीं अगर ये और एक बार सरकार में आ गये तो कानून कायदे कोर्ट सब खत्म जनता को इनकी नियत समझनी चाहिये

Mukesh Gupta पिछले दो साल से देश मे भयंकर राजनीति की जा रही है केन्द्र सरकार व भाजपा की ओर से पर इस बार ये गलत तार छेड़ बैठे है पूरे देश मे किसी भी जगह किसी भी स्तर के पत्रकार को कुछ भी कर या छेड़ा जाता था तो पूरा पत्रकार जगत मुहिम चला देता था रवीश कुमार जी के साथ जो कुछ करने की कोशिश की जा रही है सब मीडिया चुप है सबसे बड़ा सबूत पेश हो चुका है जनता के सामने कि बाकी मीडिया बिक चुकी है सरकार व भाजपा के हाथों यही बात जनता का मोहभंग कर देगी इस सरकार से रवीश कुमार पर हमला इस कुटिल केन्द्र सरकार पर बहुत भारी पड़ने वाला है

Rajesh Parihar प्रजातन्त्र के लिए एक असुभ समाचार हे जो ईमानदार हे उनके लिए पूरा देश खड़ा होना चाहिए मिडिया ही इस देश में भष्टाचार खत्म कर सकता हे

Mahboob Alam पत्रकारिता देश में चौथे स्तम्भ के रूप में जाना जाता है। पत्रकार की आवाज जनता की आवाज के रूप में होती है अतः किसी भी न्यूज चैनल को बंद करना जनता की आवाज पर कुठाराघात समझा जा सकता है।

Murli Sarswat Mk मेरी समझ में ये नही आ रहा है कि देश को सपोर्ट करने का मतलब BJP को सपोर्ट करना और मोदी सरकार का सपोर्ट कैसे हो गया । इन्ही संकीर्ण मानसिकता वाले लोगो के कारण हमारा देश एक बार नही कई बार गुलाम रह चुका है ये गद्दार एक बार फिर से देश को गुलामी की जंजीर में बांधना चाहता है।

Rajeev Sharma सच की हालत किसी तवायफ सी है, तलबगार बहुत हैं तरफदार कोई नही!

सभी लोगो के कमेंट पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें 

 


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें