महिला थाने में पौधारोपण करते हुए एसपी संगीता कालिया।
हिसार. हरियाणा के फतेहाबाद में शुक्रवार को हेल्थ मिनिस्टर अनिल विज और एसपी संगीता कालिया के बीच जमकर बहस हो गई । इस मामले के सामने आते ही मंत्री विज और स्टेट गवर्नमेंट की मीडिया में काफी किरकिरी हुई। इस घटना के बाद हर कोई तेज-तर्रार लेडी आईपीएस के बारे में जानना चाहता है। बता दें कि संगीता के पिता हरियाणा पुलिस के जिस थाने में मामूली पेंटर की नौकरी करते थे, उसी जिले की पुलिस टीम में उनकी आईपीएस बेटी डीएसपी बनकर पहुंची थी। 
फतेहाबाद में है अलग पहचान
एसपी संगीता कालिया फतेहाबाद में 9 महीने से ज्यादा वक्त से ड्यूटी कर रही हैं। अब तक उन्होंने कई चुनौतीपूर्ण केस सॉल्व किए हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि अपने कार्यकाल में उन्होंने कोई भी बड़ा मामला बिना सुलझाए नहीं छोड़ा है। यहां बतौर एसपी उनकी एक अलग पहचान है। वे सामाजिक कार्यों में भी गई रूचि दिखाती रही हैं।
ईमानदार अफसर
संगीता 2010 बैच की लेडी आईपीएस हैं। वे मूलत: भिवानी जिले की रहने वाली हैं। उनकी शिक्षा- दीक्षा यहीं हुई है। बहुत कम लोग इस बात को जानते हैं कि वे एक मामूली पेंटर की बेटी हैं। कड़ा संघर्ष करके उन्होंने एक आईपीएस अफसर का मुकाम हासिल किया।
तीसरे चांस में मिली सक्सेस
संगीता ने साल 2005 में सिविल सर्विसेज का एग्जाम दिया। पर वे सफल नहीं हुई। दूसरे चांस में भी उन्हें भारतीय रेल सेवा में नौकरी मिली। लेकिन उनका सपना कुछ और था। उन्होंने रेल की सर्विस ज्वाइन नहीं की। आखिरकार तीसरे मौके में उन्हें भारतीय पुलिस सेवा में जाने का मौका मिला। संगीता लिटरेचर और म्यूजिक में भी दिलचस्पी रखती हैं। वे रोजाना 15 घंटे काम करती हैं। वह बेहद ईमानदारी अफसर मानी जाती हैं।
जहां पिता रहे पेंटर, वहां बेटी संगीता बनकर पहुंची एसपी
संगीता को पहली बार एसपी का पदभार हरियाणा के फतेहाबाद जिले में मिला। यहां एसपी बनकर आने से पहले वे गुड़गांव की डीएसपी थीं। ख़ास बात यह है कि उनके पिता धर्मपाल इसी जिले में पुलिस विभाग में ही पेंटर की पोस्ट पर कार्यरत रहे। आईपीएस बनने का उनका सफर उन लोगों के लिए एक आइना है, जो हार मानकर संघर्ष करने की हिम्मत छोड़ देते हैं। संगीता कहती हैं कि उनके पिता ने जी-तोड़ मेहनत करके हम भाई-बहनों को पढ़ाया-लिखाया। मैं भी मेहनत कर उनके सपनों को पूरा करना चाहती थी।
कामयाब सफर
उन्हें पहली बड़ी चुनौती फतेहाबाद के गांव ढिंगसरा में हुई 25 लाख की डकैती के केस से मिली। जिसे उन्होंने उम्मीद से कम समय में सुलझाया और आरोपी गिरफ्तार किए। भारत और पिंकी मर्डर में फरार मोस्ट वांटेड अपराधियों को संगीता ने खोज निकाला। यहां लंबे वक्त से पशु चोरों के आतंक को उन्होंने जड़ से खत्म कर दिया। हत्या हो या फिर चोरी के केस, एसपी ने हर मामले पर गंभीर नजर रखी।
साभार: देनिक भास्कर

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें