एनएसयूआई के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आरएसएस और भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आज शिक्षा विभाग पर पूरी तौर से संघ की विचारधारा को थोपा जा रहा है। प्रधानमंत्री एक तरफ शिक्षा की जरूरत को बताते हैं तो दूसरी तरफ बजट ही काट लेते हैं।

इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष के आते ही एनएसयूआई के छात्रों ने पक्ष में नारेबाजी की। इस कारण राहुल का भाषण कुछ देर के लिए रोकना भी पड़ा। जैसे तैसे राहुल ने मंच संभाला, बोले आज पता नहीं आपमें इतना जोश कहां से आ गए। नारे रोकने की अपील का भी असर नहीं दिखा। उन्होंने कहा, पहले सोचता था कि पार्टी में अनुशासन क्यों नहीं है लेकिन अब दस साल बाद ये बात समझ आई कि हमारा संगठन हर किसी की बात सुनना चाहता है इसलिए यही हमारा डीएनए है। अलग–– अलग विचारधारा को एक कमरे में रख देते हैं, यही हमारी शक्ति है।

संघ पर टिप्पणी करते हुए राहुल ने कहा, उनकी शाखा में बोलने पर लाठियां चलती हैं। वहां लाइन लगती है हर बात के लिए। आरएसएस का पूरा हाथ एजुकेशन में है। जहां देखो संघ की विचारधारा लाई जा रही है। शिक्षा विभाग में संघ की विचारधारा को थोपा जा रहा है। पहले आईआईटी में बड़े– बड़े वैज्ञानिक अपनी राय रखना चाहते थे, लेकिन अब नहीं। क्यों। आरएसएस और बीजेपी एक ही विचारधारा है। कोई अंतर नहीं। एक तरफ पीएम शिक्षा की बात करते हैं दूसरी तरफ बजट काट देते हैं।

राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि कल उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह से एक घंटे इकॉनोमी की क्लास ली। उन्होंने उनसे कहा कि देश की इकॉनोमी नीचे चल रही है, इसलिए बताएं कि कैसे चलाई जाए।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें