नई दिल्ली : लखनऊ में  ‘मिनी सुब्रोतो रॉय’ की पहचान बनाने वाले धन्ना सेठ  संजय सेठ को अब राज्य सरकार राज्य सभा में भेजने की तैयारी कर रही है. दरअसल सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के बेटे प्रतीक यादव के नज़दीकी को राज्य सरकार एमएलसी बनाना चाहती थी लेकिन गवर्नर राम नाईक ने सेठ की फाइल को वापस कर दिया, जिसके बाद सेठ को अब राज्य सभा भेजे जाने की कवायद शुरू कर दी गई है.
नेताजी के बेटे प्रतीक यादव के खास चहेते संजय सेठ को अब राज्य सभा भेजेगी सपा
11 में से 7 सीटें सपा की है राज्य सभा में
गौरतलब है कि जुलाई में राज्य सभा की 11 सीटें खाली हो रही है. इसमें से 7 सीटें सपा की है. इनमें से एक सीट पर लखनऊ के धन्ना सेठ व शालीमार ग्रुप के मालिक संजय सेठ और दूसरी सीट पर एक विवादस्पद मीडिया मुग़ल का नाम तय कर दिया गया है. बताया जाता है कि सपा अपनी 7 सीटों में से दो सीटों पर इन लोगों को भेजने की तैयारी कर चुकी है.
2 अप्रैल को दिल्ली में होगी पार्टी
सूत्रों के मुताबिक 2 अप्रैल यानि इस शनिवार को सपा नेता और मुलायम सिंह के भाई शिवपाल के बेटे की शादी के उपलक्ष्य में अमर सिंह ने एक पार्टी का आयोजन किया है. इस दावतेखास में सपा मुखिया मुलायम और उनके परिवार के अतिरिक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बुलाया गया है. बताया जाता है इस खास दावत में पीएम मोदी से मुलायम सिंह की मुलाकात होगी. इससे पहले मोदी के सरकारी आवास पर मीडिया मुग़ल की किताब के विमोचन के अवसर पर अमर सिंह ने पीएम मोदी और मुलायम की मुलाकात कराई थी. समझा जाता है कि यादव परिवार के सदस्यों के खिलाफ चल रही सीबीआई जांच को लेकर इस दावत में पीएम से पैरवी की जा सकती है.
प्रतीक का खासमखास है बिल्डर सेठ
संजय सेठ का शालीमार ग्रुप इस वक़्त प्रतीक यादव का ख़ास बताया जाता है. लखनऊ की सबसे कीमती ज़मीनों पर इस ग्रुप का ही आजकल कब्ज़ा है. सेठ का छावनी में महल जैसा बंगला लखनऊ के नेताओं का बड़ा ऐशगाह माना जाता है. पिछले साल ही सेठ के दफ्तर और घरों पर इनकम टैक्स के छापे पड़े थे. इसके बाद सेठ की केंद्रीय वित्त मंत्रालय में अरबों रूपए की हेराफेरी की फाइल खोली गई थी. बताया जाता है कि प्रवर्तन निदेशालय ‘ईडी’ और इनकम टैक्स की जांच में फंसे सुब्रोतो रॉय के बाद लखनऊ के धन्ना सेठ संजय सेठ को अब राज्य सभा भेजे जाने की पूरी तैयारी है. सपा के बेहद नजदीकि कहे जाने वाले सेठ को एमएलसी बनने के भेजे गए प्रस्ताव को भले ही राजयपाल राम नाईक ने वापस कर दिया हो, लेकिन नेताजी के बेटे के करीबी माने जाने वाले धन्ना सेठ को अब एमपी बनाए जाने की कवायद जरूर शुरू हो गई है.
वित्त मंत्रालय ने खोली सेठ की फ़ाइल
यूपी के बीजेपी नेता आई पी सिंह के मुताबिक इस सिलसिले में वो खुद वित्त मंत्री अरुण जेटली और राज्य मंत्री जयंत सिन्हा से मिले थे. आई पी सिंह ने इंडिया संवाद को फ़ोन पर बताया की सेठ  की फाइल अब वित्त मंत्रालय ने खोल दी गई है.  सूत्रों के मुताबिक सेठ को एमएलसी बनने के लिए मुलायम सिंह यादव का दबाव था. (indiasamvad)

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें