उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू एवं उनके परिजनों पर लगाए गए कथित भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को निशाने पर लिया है.

कांग्रेस ने बुधवार को यह सवाल उठाते हुए कहा कि पीएम मोदी और अमित शाह भ्रष्टाचार एवं गलत कामों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करने का दावा करते हैं तो इस मुद्दे पर चुप क्यों हैं? कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि पार्टी ने 24 जुलाई को नायडू एवं उनके परिजनों पर चार आरोप लगाए थे. इनके जवाब में नायडू एवं तेलंगाना की टीआरएस सरकार ने जो स्पष्टीकरण दिया है उससे और भी सवाल उठते हैं.

और पढ़े -   राहुल ने मोदी पर आरएसएस के लोगो को हर संस्थान में डालने और झूठ बोलने का लगाया आरोप

उन्होंने कहा ‘‘तेलंगाना सरकार ने नायडू की पुत्री दीपा वेंकट के स्वर्ण भारत ट्रस्ट को हैदराबाद महानगर विकास प्राधिकरण के कुल 2.46 करोड़ रुपये के विकास प्रभारों से छूट दी थी. इसके जवाब में नायडू ने कहा कि ऐसी छूट 16 और ट्रस्टों को दी गई. ’’

उन्होंने कहा कि तेलंगाना सरकार ने यह नहीं बताया कि अन्य ऐसे सैकड़ों गैर सरकारी संगठनों ने छूट पाने के लिए सरकार से आवेदन किया था लेकिन उनको छूट नहीं दी गई. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि स्वर्ण भारत ट्रस्ट को इसी सरकार ने 8 जुलाई 2017 को विदेशी योगदान (नियमन) कानून 2010 के तहत एक नोटिस दिया था.

और पढ़े -   मोदी सरकार की बजट कटौती के चलते गई गोरखपुर में बच्चों की जान: राहुल गांधी

सुरजेवाला ने तेलंगाना सरकार द्वारा पुलिस के वाहन खरीदने के मामले में आरोप लगाया कि नायडू के पुत्र के स्वामित्व वाली हर्ष टोयटा से 350 टोयटा वाहन बिना टेंडर के खरीदे गए जबकि राधा कृष्ण मोटर से टेंडर जारी करके वाहन खरीदे गए.

उन्होंने कहा कि नायडू ने स्वीकार किया है कि भोपाल में जिस कुशाभाऊ ठाकरे स्मारक ट्रस्ट को मध्यप्रदेश सरकार ने 20 एकड़ जमीन दी थी, वह उस ट्रस्ट के तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष होने के कारण चेयरमेन थे. उन्होंने कहा कि इस सौदे पर उच्चतम न्यायालय ने कड़ी आपत्ति जताई थी.

और पढ़े -   मदरसा-गाय से फ़ुर्सत मिल जाए तो शिक्षा-स्वास्थ्य पर भी ध्यान दे दो: कुमार विश्वास

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE