419647-azam-khan-700

तीन तलाक के मुद्दे पर समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी को घेरते हुए पूछा  कि  गुजरात में जब दंगा हुआ था तब मुस्लिम महिलाओं के लिए पीएम का यह दर्द कहां था .

उन्होंने प्रधानमंत्री पर तीन तलाक के मुद्दें को उप्र विधान सभा चुनाव के लिए चुनावी मुद्दा बनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उप्र विधान सभा चुनाव के लिए तीन तलाक को मुद्दा बनाया जा रहा है. उन्होंने आगे कहा, तलाक मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का मसला है और धर्म में किसी के साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती.

और पढ़े -   बीजेपी सांसद के अखबार में मोदी की जमकर की गयी आलोचना, केजरीवाल की तारीफों के बांधे पुल

आजम खान ने आगे कहा, हिन्दू धर्म में सती प्रथा के उन्मूलन के लिए कानून में बदलाव किया गया था लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि मैं हिन्दू धर्म की आस्था पर कोई टिप्पणी करूं. इसी तरह तलाक का मामला सती प्रथा से कम अहमियत का है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि किसी को पर्सनल लॉ में हस्तक्षेप का अधिकार दिया जाए.

और पढ़े -   बीजेपी-आरएसएस धमकाने की कोशिश न करे, 2019 में चैन से भी नहीं बैठने देंगे - लालू यादव

उन्होंने आगे कहा, जो एक तलाक में यकीन रखता है वो एक तलाक दे जो दो में या तीन में रखता है वो तीन तलाक दे. जो धर्म में यकीन ही नहीं रखता वो नास्तिक बन के घूमें लेकिन धर्म जबरदस्ती का मामला नहीं हो सकता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE