लखनऊ | सोशल मीडिया पर आजकल एक विडियो वायरल हो रहा है जिसमे उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ कुछ पुलिस वाले धक्का मुक्की करते हुए दिखाई दे रहे है. इस विडियो को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्त्ता सोशल मीडिया पर खूब शेयर कर रहे है. विडियो शेयर करते हुए कुछ यूजर योगी सरकार की आलोचना भी कर रहे है.

उत्तर प्रदेश की इस हरकत को घटिया करार देते हुए एक यूजर ने लिखा की पूर्व मुख्यमंत्री के इशारे पर नाचने वाली यूपी पुलिस आज उनके साथ ऐसा व्यवहार कर रही है. दुसरे यूजर ने लिखा की कम से कम योगी जी को पूर्व मुख्यमंत्री की गरिमा का तो ख्याल रखना चाहिए. खुद समाजवादी पार्टी के फोलोवर भी इस विडियो को शेयर करते हुए लिख रहे है की हमें एक बार फिर से संघर्ष करना होगा.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक मामले में ओवैसी ने कहा - 'सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जमीन पर लागू करना बड़ा काम'

हालाँकि सोशल मीडिया पर बिना किसी जांच पड़ताल के लोग इस तरह के विडियो शेयर करते रहते है. असल में जिस विडियो को अभी का विडियो दिखाकर शेयर किया जा रहा है वो करीब छह साल पुराना है. उस समय प्रदेश में मायावती की सरकार थी. मई 2011 को प्रदेश की बिगडती कानून व्यवस्था के मुद्दे पर समाजवादी पार्टी लखनऊ में प्रदर्शन कर रही थी.

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

इसी विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए अखिलेश दिल्ली से लखनऊ आये थे. उस समय अखिलेश सांसद थे. प्रदर्शन के दौरान लखनऊ एसपी बीपी अशोक ने उनको गिरफ्तार कर लिया. उसी समय अखिलेश के साथ धक्का मुक्की की गयी. लेकिन अगले ही साल प्रदेश में सपा ने प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनायीं और अखिलेश राज्य के मुख्यमंत्री बने. मुख्यमंत्री बनते ही उन्होंने एसपी बीपी अशोक और लखनऊ के तत्कालीन एसएसपी डीके ठाकुर का तबदाला चुनार में कर दिया.

और पढ़े -   कर्नल पुरोहित के जमानत मिलने पर भड़के ओवैसी, कहा - आतंकियों का हो रहा महिमामंडन

देखे विडियो 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE