महाराष्ट्र में वंदे मातरम को अनिवार्य किए जाने को लेकर मचे बवाल के बीच केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का इस सबंध में बयान आया है. जिसमे उन्होंने साफ़ तौर पर कहा कि वंदे मातरम गाने से मना करने वाला कोई शख्स देशद्रोही नहीं है.

उन्होंने कहा, यह किसी व्यक्ति की पसंद के ऊपर निर्भर करता है कि वह वंदे मातरम गाना चाहता है या नहीं लेकिन वंदे मातरम का विरोध करने को भी देशभक्ति नहीं कहा जा सकता है. अगर कोई व्यक्ति वंदे मातरम नहीं गाता है तो हम उसे देशद्रोही या राष्ट्रविरोधी करार नहीं दे सकते. यह एक व्यक्ति की स्वतंत्रता है कि वह वंदे मातरम को गाने या ना गाने का फैसला करे .

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि अगर कोई जानबूझकर वंदेमातरम का विरोध कर रहा है तो इस मानसिकता को भी सही नहीं ठहराया जा सकता है. धार्मिक कारणों की वजह से वंदेमातरम का हमेशा से विरोध होता आया है.

गौरतलब रहें कि महाराष्ट्र में बीजेपी की वंदे मातरम को अनिवार्य करने की मांग पर सपा नेता अबु आजमी और एआईएम नेता वारिस पठान ने कहा कि वे किसी भी कीमत पर वंदे मातरम नहीं गायेंगे. चाहे उन्हें गोली मार दी जाये या जेल में डाल दिया जाए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE