श्रीनगर | एक जुलाई से पुरे देश में नयी कर प्रणाली जीएसटी लागु हो गयी. इस नयी व्यवस्था के लागु होने के बाद देश के सभी राज्यों में एक समान कर दर हो गयी. इससे पूरा देश एक बाजार की तरह हो गया. अब कोई भी सामान चाहे दिल्ली से ख़रीदा जाए या फिर तमिलनाडु से , वहां ग्राहक को समान टैक्स चुकाना होगा. हालाँकि देश में अभी भी एक राज्य ऐसा है जहाँ जीएसटी लागु नही हो पाया है.

दरअसल जीएसटी लागु होने से पहले सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियो से एक सहमती पत्र पर हस्ताक्षर कराये गए थे. इस पत्र पर हस्ताक्षर करने का मतलब था की वह राज्य अपने यहाँ जीएसटी लागु करने के लिए राजी है. लेकिन जम्मू कश्मीर एक मात्र ऐसा राज्य था जिसकी मुख्यमंत्री ने उस सहमती पत्र पर हस्ताक्षर नही किये. इसलिए अभी भी जम्मू कश्मीर में इसे लागु नही किया जा सका.

चूँकि वहां पर बीजेपी के सहयोग से सरकार चल रही है इसलिए उनका प्रयास है की जीएसटी को जल्द से जल्द वहां लागु किया जाए. इसलिए मंगलवार को विधानसभा में जीएसटी लागु करने के लिए चर्चा की गयी. लेकिन इस दौरान वहां खूब हंगामा हुआ. सरकार के एक मंत्री ने तो विपक्षी दल के विधायक को यहाँ तक कह दिया की मैं तुम्हे पीट पीट कर मार सकता हूँ. इसके बाद दोनों नेताओ के बीच काफी तीखी बहस हुई.

दरअसल राज्य एनसी के विधायक देवेन्द्र राणा ने बहस के दौरान अपने विचार रखते हुए कहा की हम सभी सदस्यों को राजनितिक सोच से ऊपर उठकर उन चीजो पर सहमत होना होगा जो राज्य और जनता के हित में हो. इस दौरान उन्होंने जीएसटी का विरोध करते हुए कहा की अगर इसको लागु किया गया तो राज्य को मिला विशेष दर्जा ही खोखला साबित हो जायेगा.

इस पर खेल मंत्री इमरान अंसारी ने राणा पर दोहरा मानदंड रखने का आरोप लगाते हुए कहा की ये सदन में जीएसटी का विरोध कर रहे है लेकिन इन्होने अपने सारे कारोबार जीएसटी में पंजीक्रत करा दिए है. इस दौरान इमरान ने राणा के सभी कारोबार के जीएसटी नम्बर भी पढ़कर बताये. इमरान यही नही रुके और सारी मर्यादाये लांघते हुए उन्होंने कहा की मैं तुम्हे पीट पीट कर भी मार सकता हूँ. तुमसे बड़ा चोर नही है. मैं तुम्हारे सारे गोरखधंदे जानता हूँ.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE