owaisi

मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भारतीय जनता पार्टी पर यूनिफॉर्म सिविल कोड के बहाने धार्मिक उन्माद की राजनीति करने का आरोप लगाया हैं.

संतकबीरनगर में एक सभा को सबोधित करते हुए उन्होंने कहा,  बीजेपी पहले गोवा में मजहबी कानून के तहत होने वाली शादियों पर रोक लगाए. उन्होंने अरुण जेटली के देश में हर कानून को संविधान के दायरे में लाने के ब्यान पर पलटवार करते हुए कहा, अगर ऐसा ही करना है तो पहले हिन्दू अविभाजित परिवार के तहत सिर्फ हिंदुओं को जो टैक्स में छूट मिलती हैं, उसमें मुस्लिमों को भी शामिल करो.

और पढ़े -   कश्मीरी युवक को जीप से बांधने के मामले में उमर अब्दुल्ला ने कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी को बताया 'तमाशा'

ओवैसी ने इस कानून को बदलने की मांग करते हुए कहा,ये कानून 1952 से लागू है और संविधान के अनुच्छेद 14,21 और 25 का उल्लंघन करता है. उन्होंने कहा कि गोवा में जो भी शादी करता है उस पर मजहबी कानून लागू होता है. ईसाई शादी करता है तो चर्च का कानून लागू होता है. इसी तरह हिन्दू शादी करता है तो उस पर हिन्दू रीति रिवाज लागू होते हैं. गोवा में कुछ जगह बहुविवाह की भी इजाजत है. ऐसे में भाजपा गोवा में शादी संबंधी कानून को खत्म करके दिखाएँ.

और पढ़े -   मध्य प्रदेश में सेक्स रैकेट चलाने और जासूसी काण्ड में बीजेपी नेताओ के पकडे जाने से पार्टी की राष्ट्रवादी छवि को पहुंचा नुक्सान ?

उन्होंने आगे कहा, बीजेपी अपनी नाकामी छुपाने के लिए विभाजनकारी एजेंडे पर चल रही है जिससे कि वोटों का ध्रुवीकरण हो सके. इसलिए बीजेपी यूनिफॉर्म सिविल कोड लाकर हिन्दुस्तान की खूबसूरती और अमन चैन बिगाड़ना चाहती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE