केंद्रीय पेयजल और स्वच्छता मंत्री उमा भारती ने जल संसाधन मंत्रालय से हटाए जाने को लेकर आखिरकार अपनी चुप्पी तोड़ ही ली है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके काम से नाराज थे. जिसके चलते उन्हें जल संसाधन मंत्रालय से हटाकर कम महत्व वाले पेय जल और स्वच्छता मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई.

इस दौरान उमा ने ये भी स्वीकारा कि उन्हें अपने कार्यकाल में दो बार पीएम मोदी से डांट सुनने को मिली. हालांकि उन्होंने जो वजह बताई वह हैरान कर देने वाली है.

और पढ़े -   प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी में बोले राहुल - नए रोजगार देने में पूरी तरह फ़ैल रही मोदी सरकार

उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री ने उन्हें कभी मंत्रालय के कामकाज में कोताही बरतने के लिए नहीं डांटा. उन्होंने कहा प्रधानमंत्री ने तीन सालों में उन्हें महज दो बार टोका है. वो भी मोटा होने के लिए, किसी और वजह से नहीं से कभी नहीं टोका.

उमा भारती ने कहा, पोर्टफोलियो बदलने के पीछे मेरी इच्छा थी. मैंने प्रधानमंत्री से गंगा के किनारे पदयात्रा करने की अनुमति मांगी थी. अब वो इच्छा पूरा करने जा रही हूं. मैं प्रधानमंत्री का आभार प्रकट करती हूं.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों को भी देश रहने का है मौलिक अधिकार: ओवैसी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE