udhav-650_650x488_61431800574

केंद्र और महाराष्ट्र की सत्ता में भारतीय जनता पार्टी की ख़ास सहयोगी शिवसेना ने 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य करने के फैसले को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि सीमापार सेना के लक्षित हमले के बाद भी संघर्षविराम उल्लंघन के मामले बढ़े है और समय बतायेगा कि कालाधन पर दूसरा लक्षित हमला कितना सफल रहता है.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों को भी देश रहने का है मौलिक अधिकार: ओवैसी

पार्टी ने कहा कि भ्रष्टाचार एक सोच है और जब तक इसमें कोई बदलाव नहीं आता है, कालाधन की बीमारी पर पूरी तरह से लगाम नहीं लगाई जा सकेगी. मुखपत्र सामना के संपादकीय में पार्टी की और से कहा गया  कि, ‘‘मोदी ने पिछले महीने पाकिस्तान के आतंकी शिविरों के खिलाफ अचानक सर्जिकल स्ट्राइक किया और अब उन्होंने कालाधन के खिलाफ लक्षित हमला किया है.”

और पढ़े -   महिला आरक्षण बिल: सोनिया की पीएम मोदी को चुनौती, लोकसभा में है बहुमत पास करवा कर दिखाए

शिवसेना ने चुनावी वादों को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि विदेशों में जमा कालाधन को देश में वापस लाने और भारतीयों के खाते में 15 लाख रूपये जमा करने से था. विदेशों में जमा कालाधन वापस लाने के बारे में सरकार अभी तक कितनी सफल रही है?

इसमें कहा गया है कि मोदी ने अपने तरीके से इसका जवाब दिया है और 500 रूपये एवं 1000 रूपये के नोटों को अमान्य कर दिया.

और पढ़े -   अमेरिका में बोले राहुल - असहिष्णुता और बेरोजगारी के चलते देश खतरे में जा रहा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE