mayawati-620x400

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के गोरक्षकों की प्रशंसा करने पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने आलोचना करते हुए कहा कि  नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद से गोरक्षा के नाम पर पहले मुसलमानों और अब दलितों का देश भर में उत्पीड़न किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि मोहन भागवत ने जो गोरक्षकों की प्रशंसा की है, क्या इसका मतलब ये है कि गोरक्षा के नाम पर उनको अब देशभर में मुस्लिमों और दलितों के उत्पीड़न का लाइसेंस है. उन्होंने आगे कहा, ‘गोरक्षकों की ओर से आपराधिक, असामाजिक और जातिवादी हिंसक कृत्यों की अनेक दर्दनाक घटनाओं के सामने आने के बावजूद जनभावना के खिलाफ जाकर इन आपराधिक तत्वों की तारीफ करना निश्चित रूप से देशहित का काम नहीं हो सकता है.’

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के अगर आतंकियों से है सबंध तो सबूत सार्वजानिक करे मोदी सरकार: कांग्रेस

मायावती ने कहा,चाहे गुजरात का उना दलित उत्पीड़न का मामला हो या फिर बीजेपी शासित अन्य राज्यों के मामले हो, ऐसी तमाम घटनाएं सामने आती रहती हैं .उन्होंने कहा, ‘वास्तव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद देश में गौरक्षा के नाम पर पहले मुसलमानों को और अब दलितों को हर प्रकार की जुल्म, ज्यादती और उत्पीड़न का जबर्दस्त शिकार बनाया जा रहा है. इसके बावजूद संघ प्रमुख द्वारा गौरक्षकों को संरक्षण प्रदान करना समाज और देश को जोड़ने का काम नहीं हो सकता.

और पढ़े -   BHU मामले में कांग्रेस का बीजेपी पर हमला - 'बेटी बचाओ का नारा बेटी पिटवाओ में बदल गया'

उन्होंने कहा कि इसी का दुष्परिणाम है कि गुजरात में अत्यंत दर्दनाक उना दलित उत्पीड़न कांड के सार्वजनिक होने पर पूरा देश आक्रोशित हुआ. गोरक्षा के नाम पर भाजपा शासित राज्यों गुजरात, मध्य प्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, झारखंड में लगातार हिंसक वारदात हो रही हैं. उत्तर प्रदेश के दादरी कांड में तो पीट पीट कर मार भी दिया जाता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE