mamta

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 500 और 1000 रूपये के नोटों को हटाने के केन्द्र के फैसले को निर्मम बताते हुए कहा कि सरकार ने ये फैसला बिना सोच-समझ के लिया हैं.

ममता ने इस फैसले को केंद्र से तुरंत वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि इससे वित्तीय दिक्कतें पैदा होंगी. उन्होंने इसे आम लोगों तथा छोटे कारोबारियों के लिए वित्तीय अव्यवस्था और आपदा बताया.

और पढ़े -   हिन्दू संत-महंतों के लिए कांग्रेस ने किया सेल का गठन, पार्टी में ही उठने लगी विरोध की आवाज

उन्होंने कहा, मैं कालेधन, भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त हूं, लेकिन आम लोगों तथा छोटे कारोबारियों के बारे में गहराई से चितिंत हूं. वे सामान कैसे खरीदेंगे? यह वित्तीय अव्यवस्था और आपदा है.

इसके अलावा उन्होंने प्रधानमंत्री की आलोचना करते हुए कहा, मोदी सरकार पर विदेश से काला धन वापस लाने में नाकामी से ध्यान हटाने के लिए नाटक कर रही हैं.

और पढ़े -   दलित और अल्पसंख्यक विरोधी नहीं बल्कि भाजपा महिला विरोधी भी है: गुलाम नबी आजाद

उन्होंने आगे कहा, प्रधानमंत्री अमीरों से विदेश में जमा कालाधन वसूलने का वादा नहीं पूरा कर पाए, इसलिए इस नाकामी से ध्यान हटाने के लिए नाटक किया गया.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE