nasim

बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने गुरुवार को मुस्लिम वोटों को अपने पार्टी के पालें में करने के लिए दलित-मुस्लिम कार्ड खेलते हुए कहा कि जिस दिन दलित-मुस्लिम एक हो जाएंगे, उस दिन हिंदुस्तान पर मुसलमानों की हुकूमत होगी.

फरीदपुर प्रत्याशी व पूर्व विधायक विजयपाल सिंह की ओर से प्रभुतानंद सत्संग भवन में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में सिख और ईसाई संख्या में बहुत कम हैं पर उन्हें सियासत का शऊर है इसलिए हर सरकार में अपनी जोरदार मौजूदगी दर्ज कराते हैं. वहीं, संख्या ज्यादा होने के बावजूद मुसलमानों को सही राजनीतिक प्रतिनिधित्व नहीं मिलता क्योंकि उन्हें अपनी ताकत का एहसास नहीं है. अब वक्त आ गया है कि वो अपनी ताकत पहचानें और सरकार बनाने के लिए आगे आएं.

और पढ़े -   सपा नेता माविया अली का बयान, पहले हम मुस्लमान , फिर भारतीय

उन्होने आगे कहा कि गौरक्षा, बीफ, लव जिहाद और घर वापसी के बाद अब अयोध्या में मंदिर निर्माण का मुद्दा आने वाला है. केन्द्र के मंत्रियों ने अयोध्या के दौरे शुरू कर दिये हैं. भाजपा चुनाव आते ही मंदिर निर्माण शुरू कर देती है और चुनाव ख़त्म होते ही मंदिर निर्माण ख़त्म हो जाता है.

वहीँ बसपा विधायक और अतर सिंह राव  ने कहा ‘आपकी हदीस कहती है कि सैलानियों को मंजिल तक पहुंचने के लिए एक कायद (नेता) की जरूरत होती है…दलितों ने एक नेता को चुना और उसके पीछे चले. जो समुदाय पिछले 5 हजार सालों से गुलाम था वो आपकी हदीस पर अमल करके राजा हो गया.’  राव ने कहा- ‘नमाज और जनाजे के लिए आप एक साथ आते हैं, लेकिन वोट के समय बिखर जाते हैं. जिस काफिले का कोई रहबर नहीं होता वो काफिले भटक जाते हैं, लुट जाते हैं.’

और पढ़े -   मोदी सरकार की बजट कटौती के चलते गई गोरखपुर में बच्चों की जान: राहुल गांधी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE