naqvi

केंद्र की एनडीए सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ऐसा बयान दे दिया हैं जिससे मोदी सरकार बुरी तरह घिर सकती हैं. बुधवार को नकवी ने कहा कि देश के अल्पसंख्यक “कभी-कभी खुद को दोयम दर्जे का नागरिक महसूस करने लगते हैं.

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सालाना व्याख्यान में बोलते हुए नकवी ने कहा, “अल्पसंख्यक अधिकारों के मामले में भारत एक आदर्श देश है- आप अपने पासपड़ोस में देखिए और आपको पता चल जाएगा…हालांकि हमारे संविधान में समान अधिकार की गारंटी दी गई है लेकिन उस समानता के अहसास में कई बार कमी महसूस होती है, कभी-कभी हमें दोयम दर्जे के नागरिक जैसा लगता है.

नकवी ने आगे कहा कि उनका बयान अल्पसंख्यकों की सामाजिक स्थिति पर टिप्पणी नहीं है. नकवी ने कहा, “हम दंगा न होने देने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं. भारतीय मुसलमानों को किसी से देशभक्ति का सबूत नहीं चाहिए. उन्हीं की वजह से कट्टरवादी संगठन भारत में जगह नहीं बना पाए हैं.

गौरतलब रहें कि केंद्र में मोदी सरकार  के गठन के साथ ही अल्पसंख्यकों पर अत्याचार को लेकर भाजपा और संघ परिवार के बयानों के कारण आलोचनाओं का सामना करती आ रही हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें