rajnath

गृहमंत्री राजनाथ सिंह हिंसा और तनाव से जूझ रही घाटी में सुरक्षा-व्यवस्था का जायज़ा लेने के लिए बुधवार को दो दिन के दौरे पर जम्मू कश्मीर पहुंचे हैं. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के कश्मीर] दौरे का आज दूसरा और अंतिम दिन है.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज  मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ कश्मीर के हालात को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि हिंसा के दौरान बच्चों को उकसाया गया था और 5 फीसदी ही ऐसे लोग है जो हिंसा करके कश्मीर के हालात को बिगाड़ना चाहते हैं.

और पढ़े -   लालू का बीजेपी-आरएसएस पर वार कहा, खींच कर दिल्ली की कुर्सी से नीचे ले आऊंगा

राजनाथ ने आगे कश्मीरी आवाम अपील की कि इस इलाके में अमन शांति के लिए हरेक को कोशिश करनी चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने ये भी साफ किया कि एनकाउंटर भी रुकने चाहिए.  राजनाथ ने कहा, “मैं सभी से अपील करना चाहता हूं कि युवाओं के भविष्य से खेलवाड़ नहीं किया जाए. 12-12 साल 14-14 साल के लड़कों के हाथों में कंप्यूटर और कलम होने चाहिए. कौन उन्हें बंदूक उठाने की इजाजत देते हैं.?”

और पढ़े -   राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की और से उतरा जाएगा सयुंक्त उम्मीदवार - येचुरी

इसके साथ ही राजनाथ ने कहा, “हम कश्मीर के बच्चों के भविष्य को हिंदुस्तान के बच्चों के साथ जोड़कर देखते हैं. हम कश्मीरी अवाम से अपील करते हैं कि जो लोग ऐसे हालात पैदा कर रहे हैं, वो उनकी पहचान करें.”

पैलेट गन के इस्तेमाल पर राजनाथ ने कहा कि हमारी सरकार पैलेट गन के विकल्प पर विचार कर रही है. इसके लिए एक एक्सपर्ट कमेटी का गठन कर दिया गया है. पैलेट गन पर एक से दो दिन में रिपोर्ट आ जाएगी.

और पढ़े -   सीबीआई ने जेटली के खिलाफ 400 करोड़ रु के डीडीसीए घोटाले की जांच क्यों की - कीर्ति आजाद

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE