change your mentality otherwise ready for see the result

जैसे जैसे उत्तर प्रदेश में चुनाव की तारीख नज़दीक आती जा रही है वैसे वैसे नेतागण सक्रीय होते नज़र आ रहे है इसका उदाहरण दिया साक्षी महाराज ने जिन्होंने मुस्लिम महिलाओं की स्थिति जूती के बराबर बताते हुए एक विवादित बयान दे डाला, वैसे विवादों से साक्षी महाराज का हमेशा से नाता रहा है इससे पहले वो मीडिया में ‘पाकिस्तान भेजने वाले ब्रांड एम्बेसडर’ के तौर पर प्रसिद्ध रह चुके है यही नही पिछली बार उन्होंने हिन्दू महिलाओं को चार चार बच्चे पैदा करने की नसीहत भी दे डाली थी

बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने कहा है कि इस्लाम में महिलाओं की हालत जूती की तरह है. उन्होंने कहा कि इसको लेकर अदालत को दखल देना चाहिए. विवादित बयानों के लिए चर्चित साक्षी महाराज ने अपने संसदीय क्षेत्र उन्नाव में यह बयान दिया है.

संविधान से चले देश, फतवों से नहीं
उन्होंने कहा कि मस्जिदों में महिलाओं को नमाज पढ़ने का हक दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस्लाम में महिलाओं को पुरुषों के समान अधिकार मिलने चाहिए. देश को संविधान के हिसाब से चलना चाहिए न कि फतवों से. उन्होंने कहा कि हिंदुओं के मामले में दखल देते रही अदालत को इस्लाम के मामले में भी दखल देने की जरूरत है.

सरकार और अदालत को दखल देना चाहिए
महाराज ने कहा कि इस्लाम में महिलाओं की हालत बहुत दयनीय है. उन्हें पैर की जूतियों की तरह इस्तेमाल किया जाता है. जब जरूरत हुई तो पहन लिया फिर उतार कर बाहर कर दिया. सरकार और अदालत को इस मामले में आगे बढ़कर दखल देनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हर मामले में सिर्फ हिंदुओं को ही निशाना बनाया जाना सही बात नहीं है.

वैसे साक्षी महाराज को ये खबर पढनी चाहिए जिसमे जस्टिस राजेंद्र सच्चर खुद कह रहे है की “इस्लाम ने पहली दफा औरतों को उनका हक दिया


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें