राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार को लेकर विपक्ष में एकजुटता बनाने की कोशिश की जा रही है. बिहार के सीएम नीतीश कुमार की और से राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का नाम आगे किया गया है तो वहीँ सीपीआई (एम) महासचिव सीताराम येचुरी ने महात्मा गाधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी को लेकर भी हामी भरी है.

येचुरी ने कहा, सभी दलों के साथ एक चरण की बातचीत हुयी है. हम, विपक्षी पार्टियां, अब इसे आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं और एक उम्मीदवार पर ध्यान दे रहे हैं. गोपाल कृष्ण गांधी को उम्मीदवार बनाये जाने को लेकर उन्होंने कहा, उनके नाम पर भी विचार हो रहा है. मैंने करीब दो महीना पहले उनसे बातचीत की थी। हमने उनसे कहा कि आप एक अच्छे उम्मीदवार हैं. उन्होंने कहा कि अगर सभी विपक्षी पार्टियां एक साथ उनसे संपर्क करती हैं तो वह विचार करेंगे.

और पढ़े -   हार्दिक पटेल की पटेल समुदाय से अपील कहा, बीजेपी को वोट मत देना चाहे मेरे पिता भी कहे

हालंकि उन्होंने उन नामों का खुलासा करने से इंकार कर दिया जिनके नाम पर विपक्षी दलों द्वारा विचार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि संबंधित व्यक्ति को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. येचुरी ने कहा, मैं नाम नहीं ले रहा हूं क्योंकि आपने लिखा था कि आडवाणी राष्ट्रपति होंगे. हमने नहीं कहा था. वैसा लिखे जाने के दो दिन बाद बाबरी मस्जिद मामला फिर खुल गया. इसलिए नाम नहीं पूछिए. यह उन लोगों के लिए खतरनाक है.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों के मुद्दें पर भारत बना रहा म्यांमार पर दबाव: सुषमा स्वराज

येचुरी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी संविधान का सांप्रदायिक निरीक्षण चाहती है. इसलिए सर्वसम्मत उम्मीदवार के लिए पहल नहीं की गई.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE