udha1

केरल के कोझीकोड मे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा मुसलमानों के सबंध में दिए गए बयान को लेकर सत्ता में उनकी सहयोगी पार्टी शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सवाल उठाते हुए पूछा कि आज अचानक मुसलमानों की याद क्यों आ गई ?

मोदी ने रविवार को कहा था कि मुसलमानों को ‘वोट की मंडी का माल’ न समझते हुए उन्हें अपना मान कर उनके उत्थान के लिये काम करने की जरूरत हैं. उन्होंने भाजपा की बैठक में कहा था कि वे ‘घृणा के पात्र नहीं’ हैं और न ही उन्हें ”वोट मंडी की वस्तु” के रूप में देखा जाना चाहिए बल्कि उनके साथ ‘अपनों’ की तरह से व्यवहार करना चाहिए.

और पढ़े -   सहारनपुर दौरे से पहले बोली मायवती - अगर मुझे कुछ होता है तो सिर्फ बीजेपी जिम्मेदार

उद्धव ठाकरे ने इस बारे में कहा कि सरकार बदल गई, फिर भी मुसलमानों की खुशामद का नया प्रयोग जारी है. सामना में आगे कहा गया कि मुसलमानों को वंदे मातरम का विरोध करना छोड़ना होगा जो वंदे मातरम का उद्घोष करेगा वह मुसलमान अपना ही है.

उद्धव के मुताबिक मुसलमानों को साथ लेकर राजनिति करनेवालों का एक नया बैंक बन गया है और इसके चलते राम मंदिर का कंगूरा उतरता हुआ दिखाई दे रहा है. मुसलमान इस देश का सर्वकालीन दुश्मन नहीं,लेकिन हिन्दुओं को उनके कारण ही हिन्दुस्तान मे सम्मान और अधिकार नहीं मिल रहा है.

और पढ़े -   मुस्लिम समाज खुद तीन तलाक को खत्म कर दे अन्यथा सरकार तो कानून लाएगी - नायडू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE