बुधवार को मध्य रात्रि (12 बजे) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करने के बाद तेजस्वी यादव ने भी सरकार बनाने का दावा पेश किया. हालांकि राज्यपाल ने जेडीयू-एनडीए गठबंधन को पहले ही सरकार बनाने के न्यौते की चिट्ठी दे दी.

रात करीब 3 बजे अपने समर्थकों के साथ राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी से के बाद उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र की हत्या है. हम लोगोें को सुबह 11 बजे का समय दिया गया था लेकिन शपथ ग्रहण समारोह का समय सुबह 10  बजे रखा गया है. ऐसे में उनके दावों को दरकिनार किया जा रहा है. तेजस्वी ने कहा कि राज्यपाल को पहले आरजेडी को बुलाना चाहिए था, क्योंकि ये राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है.

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों को भी देश रहने का है मौलिक अधिकार: ओवैसी

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर बताया कि उनकी पार्टी को गुरुवार सुबह 11 बजे राज्यपाल से मिलने का समय दिया गया है. लेकिन नीतीश कुमार और एनडीए को सुबह 10 बजे का समय मिलने के बाद उन्होंने सवाल उठाए कि आखिर इतनी जल्दी क्या है?ट्वीट

उन्होंने ट्वीट में यह भी कहा कि जेडीयू के आधे से ज्यादा विधायक हमारे संपर्क में हैं, इसलिए नीतीश जी ने आधी रात में राजभवन का रुख किया. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार आख‍िर किस मुंह से बीजेपी के साथ सरकार बनाने जा रहे हैं. वे 28 साल के एक लड़के से डर गए हैं. उनमें हिम्मत है तो फिर से चुनाव का सामना करेंगे.

और पढ़े -   महिला आरक्षण बिल: सोनिया की पीएम मोदी को चुनौती, लोकसभा में है बहुमत पास करवा कर दिखाए

आरजेडी नेता ने कहा कि बिहार की जनता नेता ने बीजेपी के खिलाफ़ जनादेश दिया था लेकिन नीतीश कुमार बिहार के साथ नाइंसाफ़ी करने वालों के साथ गले मिल रहे हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE