tariq_hameed_karra_3011136f

कश्मीर हिंसा को लेकर भारत सरकार के रुख से नाराज होकर इस्तीफा देने वाले पूर्व सांसद तारिक हमीद कर्रा को लेकर माकपा नेता मुहम्मद यूसुफ तारिगामी ने आज कहा कि उन्हें लोकसभा से इस्तीफा देने की बजाय कश्मीर का मुद्दा संसद में उठाना चाहिए था।

तारिगामी ने आगे कहा कि ‘कर्रा को कोई भी फैसला लेने का अधिकार है। हालांकि मैं अपनी बात उठाने के लिए कोई अवसर या मंच नहीं छोड़ता।’’ कर्रा को कश्मीर की स्थिति के बारे में संसद मे बोलना चाहिए था।

और पढ़े -   आजम खान ने एक बार फिर पार की हदे कहा, सेना करती है बलात्कार

उरी आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच पैदा हुए तनाव के बारे में उन्होंने कहा कि टकराव के लिए यह कोई ‘‘बहाना’’ नहीं होना चाहिए क्योंकि सभी पक्षों के बीच बातचीत से ही कश्मीर मुद्दे का सौहाद्र्रपूर्ण हल निकल सकता है।

गौरतलब रहें कि कुलगाम के विधायक तारिगामी ने इस्तीफा देते वक्त कहा था कि, केंद्र और राज्य सरकार पर कश्मीर में जारी विरोध प्रदर्शन को काबू में करने के लिए अधिक बलप्रयोग कर रही है. सरकार जमीनी हालात को नजरअंदाज कर रही है और असंवेदनशील रवैया अपना रही है. इसलिए वे अपनी लोकसभा सदस्यता और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रहे है.

और पढ़े -   मीरा कुमार की उम्मीदवारी पर नीतीश ने कहा - क्या बिहार की बेटी को हारने के लिए प्रत्याशी बनाया गया

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE