hem

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री, नेता विपक्ष हेमंत सोरेन ने भोपाल जेल से कथित सिमी सदस्यों के कथित एनकाउंटर की उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से न्यायिक जांच करवाने की मांग करते हुए इस पुरे मामले को संदिग्ध बताया.

उन्होंने कथित एनकाउंटर पर सवाल करते हुए कहा कि यह समझ से परे है कि विशेष सुरक्षा वाली केन्द्रीय जेल से दर्जनों सीसीटीवी की नजर से छिपकर कोई कैसे बाहर निकल सकता है? उन्होंने आगे कहा कि भोपाल जेल से अल्पसंख्यक समुदाय के आठ लोगों का फरार होना और दूसरे ही दिन सुनसान टीले पर उनकी हत्या शक पैदा करता है.

और पढ़े -   लालू का बीजेपी-आरएसएस पर वार कहा, खींच कर दिल्ली की कुर्सी से नीचे ले आऊंगा

हेमंत सोरेन ने कहा कि  गुजरात में फर्जी मुठभेड़ में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की हत्या, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ एवं झारखंड के मूलवासी-आदिवासी लोगों को नक्सली बता कर पुलिस के द्वारा सामूहिक हत्या किया जाना, यह स्पष्ट करता है कि भाजपा अपने उग्र हिन्दुत्व के एजेंडा को लागू करवाने के लिए किसी भी स्तर तक जा सकती है.

उन्होंने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि भाजपा शासित राज्यों में होने वाली इस तरह की घटनाओं की सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश से इसकी जांच कराई जाए. ताकि देश में लोकतंत्र के साथ-साथ न्यायिक व्यवस्था पर आम जनों का विश्वास बना रहेे.

और पढ़े -   बीजेपी के जंगलराज में मुस्लिमों को मारा जा रहा और सरकार पूरी तरह खामोश - सीताराम येचुरी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE