udhav-650_650x488_61431800574

शिवसेना ने अपनी पार्टी के मुखपत्र सामना में ‘तीन तलाक’ की प्रथा को खत्म किए जाने का समर्थन किया हैं. शिवसेना ने कहा कि यह परंपरा दिखाती है कि देश में मुस्लिम महिलाओं के लिए न्याय की लड़ाई कितनी मुश्किल है। साथ ही ‘सेकुलर’ लोगों को निशाने पर लेते हुवे पूछा कि हिंदू धर्म में मौजूद कुरीतियों के खिलाफ आवाज उठाई गई। लेकिन इस मुद्दे पर खामोशी क्यों रही?

और पढ़े -   बीजेपी के जंगलराज में मुस्लिमों को मारा जा रहा और सरकार पूरी तरह खामोश - सीताराम येचुरी

शिवसेना ने कहा कि भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन (बीएमएमए) की लड़ाई को समर्थन देते हुवे कहा कि इस आन्दोलन को पूरे भारत में समर्थन मिल रहा है। यह मुस्लिम महिलाओं के लिए उम्मीद की किरण के तौर पर काम करेगा। बीएमएमए ने राष्ट्रीय महिला आयोग से तीन तलाक की व्यवस्था को खत्म करने के लिए समर्थन की मांग की है।

गोरतलब रहें कि “पिछले साल ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और दूसरे संबंधित संस्थाओं ने तीन तलाक की व्यवस्था में बदलाव के लिए मना कर दिया था।

और पढ़े -   कानून से ऊपर नहीं गौरक्षक, जो लोगों को बेरहमी से मार रहे है: केंद्रीय मंत्री अठावले

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE