पटना साहिब से सांसद सिन्‍हा ने कहा कि, ‘मैं राजनीति में अच्‍छा व्‍यक्ति हूं तो दूसरी पार्टियों में भी मेरे प्रति सहानुभूति रखने वाले लोग हैं। इसलिए मैं कह रहा हूं कि मुझे कोई दिक्‍कत नहीं है।

भाजपा सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा ने सोमवार को कहा कि अगर वे निर्दलीय चुनाव लड़े तो भी जीत सकते हैं। साथ ही स्‍वीकार किया कि लंबे समय से उन्‍हें अन्‍य पार्टियों से भी सहानुभू‍ति मिल रही है। पटना साहिब से सांसद सिन्‍हा ने कहा कि, ‘मैं राजनीति में अच्‍छा व्‍यक्ति हूं तो दूसरी पार्टियों में भी मेरे प्रति सहानुभूति रखने वाले लोग हैं। इसलिए मैं कह रहा हूं कि मुझे कोई दिक्‍कत नहीं है। मैं हमेशा शांत, गंभीर और संयमित रहा। कुछ भी हो जाए मैं अपने आदर्शों से समझौता नहीं करूंगा। मैंने कुछ भी पार्टी या देश विरोधी काम नहीं किया है।’

सिन्‍हा ने कहाकि, ‘मैं रिकॉर्ड मतों से जीत रहा हूं। यदि मैं एक निर्दलीय के रूप में भी चुनाव लड़ू तो मुझे कोई परेशानी नहीं होगी क्‍योंकि काफी लोग मेरा समर्थन करते हैं।’ गौरतलब है कि शत्रुघ्‍न सिन्‍हा ने 2014 का लोकसभा चुनाव 2.64 लाख मतों से जीता था। उन्‍हें बिहार चुनावों के दौरान प्रचार से दूर रखा गया था जबकि इससे पहले वे स्‍टार कैंपेनर हुआ करते थे। चुनाव परिणाम के बाद उन्‍होंने पार्टी पर निशाना साधा था और महागठबंधन की जीत को लोकतंत्र की जीत बताया था।

उन्‍होंने कहा कि, मुझे नतीजा साफ दिख रहा था। मैंने टि्वटर समेत कई जरियों से लोगों को समझाने की कोशिश की। मैंने सुना कि वे मुझे पद से हटा सकते हैं। मैंने कहा मुझे कोई परेशानी नहीं है क्‍योंकि वे लोग निर्णय करने वाले स्‍थान पर हैं लेकिन उन्‍होंने मुझे नहीं हटाया। मैं किसी के खुशामद में कसीदे नहीं पढ़ सकता। जब प्रधानमंत्री और पार्टी ने अच्‍छा काम किया मैंने इसकी तारीफ की और जब मुझे लगा कि ऐसा सही नहीं है तो मैंने अपनी राय रखी। साभार:


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें