Jdu President Sharad Yadav Addressing Press Conference in new Delhi on tuesday. Tribune Photo.Mukesh Aggarwal
Jdu President Sharad Yadav

जनता दल युनाइटेड (JDU) नेता शरद यादव ने देश में बेरोजगारी बढ़ने की तुलना कांवड़ियों की भीड़ से करके विवाद खड़ा कर दिया हैं. शरद यादव ने कहा कि अगर रोजगार होता तो कांवड़ियों की इतनी बड़ी तादाद सड़कों पर न होती.

कानपुर में जेडीयू की रैली के लिए पहुंचे शरद यादव ने कहा कि देश में बेरोजगारी बढ़ी है जिसका उदाहरण कांवड़ियों की बढ़ती भीड़ से साफ-साफ देखा जा सकता है. शरद ने कहा कि कांवड़ियों के पास कोई काम-धंधा नहीं है इसलिए वे हरिद्वार जा रहे हैं. उनके मुताबिक, हरिद्वार में भीड़ बेरोजगारी की वजह से बढ़ रही है.

और पढ़े -   कोविंद को राष्ट्रपति बनाने के लिए दलित प्रेम नहीं बल्कि आरएसएस से जुड़ा होना है: मायावती

शरद यादव ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि नौकरियां देने का वादा कर बीजेपी केंद्र में आई, लेकिन वह ये वादा पूरा नहीं कर सकी. इसकी मिसाल है हाल ही में सड़कों पर निकले लाखों कांवड़िए. अपने बयान में शरद यादव ने कांवड़ियों को बेरोजगारी की निशानी बता दिया.

शरद यादव के इस बयान से शिव भक्तों के साथ ही धर्मगुरु भी नाराज हैं. सुमेरू पीठाधीश्वर स्वामी नरेंद्र नंद, अखाड़ा परिषद के नरेंद्र गिरि और आत्मानंद ब्रह्मचारी, हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणी ने इस बयान पर विरोध दर्ज करवाया है.

और पढ़े -   नायडू के बयान पर भड़के केजरीवाल, कहा - अमीरों की कर्जमाफी फैशन नजर नहीं आती

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE