udhav-650_650x488_61431800574

नोट बंदी के मुद्दें पर शिवसेना पहले ही मोदी सरकार का साथ छोड़कर विपक्ष के साथ खड़ी नजर आ रही थी. लेकिन अब अपने तेवर और सख्त करते हुए शिवसेना ने मोदी सरकार को इस मुद्दें पर सत्ता से अलग होने की भी धमकी दे दी हैं.

दरअसल शिवसेना केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक के उस नियम के खिलाफ हैं जिसमे ज़िला सहकारी बैंकों के द्वारा पुराने नोट बदलने और जमा करने पर रोक लगाई गई हैं. देश भर में जिला सहकारी बैंकों की सर्वाधिक संख्या महाराष्ट्र में हैं. महाराष्ट्र के 31 सहकारी बैंकों में 3 करोड़ ग्राहकों के 60 हजार करोड़ रुपये जमा हैं.

और पढ़े -   सपा नेता माविया अली का बयान, पहले हम मुस्लमान , फिर भारतीय

इस मुद्दें को लेकर शिवसेना नेता आनंदराव अडसूल ने कहा है कि इस मुद्दे पर उनकी बात सुनी नहीं गई तो वे सत्ता से बाहर भी निकल सकते हैं. उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना के पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे से इस मुद्दे पर उनकी बात हो चुकी है और इस मुद्दे पर उद्धव ठाकरे की भी यही भूमिका है.

महाराष्ट्र के सभी ज़िला सहकारी बैंकों ने केंद्र सरकार के भेदभावपूर्ण रवैये के खिलाफ़ बॉम्बे हाइकोर्ट में याचिका भी दायर की हुई है.

और पढ़े -   शरद यादव सहित 21 नेता JDU से निलंबित, शरद यादव ठोकेंगे पार्टी पर अपना दावा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE