arun-jaitley_650x400_71453549699

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और वित्तीय संस्थानों के प्रमुखों के साथहुई बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में एकीकरण और मजबूती होना चाहिए. जेटली ने कहा कि फिलहाल सरकार भारतीय स्टेट बैंक में उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक के विलय के मुद्दे को ही देख रही है और इस संबंध में कोई निर्णय जल्द ले लिया जायेगा.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में कुर्सी न मिलने पर भडके बीजेपी विधायाक बोले, मैं अब भी गुलाम

उन्होंने कहा कि ‘‘हम फिलहाल स्टेट बैंक के प्रस्ताव को देख रहे हैं। यह सरकार के पास है और इस पर प्रतिक्रिया देंगे। सरकार की नीति काफी कुछ एकीकरण का समर्थन करने की है। बजट में भी हमने इसका संकेत दिया है।’’ सरकार की तरफ से मंजूरी कब मिलने की उम्मीद है, ‘‘हम इसे जल्द ही मंजूरी की उम्मीद कर रहे हैं।’’

और पढ़े -   सियासी नक़्शे पर बढ रही बीजेपी पर हो रही धनवर्षा, पिछले चार सालो में मिला 706 करोड़ रूपए चंदा

गोरतलब रहें कि स्टेट बैंक ने अपने सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक के विलय का प्रस्ताव पेश कर विलय पर सरकार की मंजूरी मांगी थी.  भारतीय स्टेट बैंक के पांच सहयोगी बैंक हैं. इनमें स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एण्ड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर और स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद शामिल हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE