ashutosh_aam_admi_party_leader_624x351_bbc

सेक्स सीडी को लेकर आम आदमी पार्टी के मंत्री पद से बर्खास्त हुए संदीप कुमार के बचाव के लिए पार्टी नेता आशुतोष ने अपने ब्लॉग में संदीप की तुलना नेहरु, गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी और जॉर्ज फर्नांडीज के रिश्तों से कर डाली है.

आशुतष ने अपने ब्लॉग में लिखा कि भारतीय इतिहास ऐसे उदाहरणों से भरा पड़ा है जहां हमारे नायकों और नेताओं ने सामाजिक बंधनों से बेपरवाह होकर अपनी इच्छाओं की पूर्ति की. पंडित जवाहर लाल नेहरू की कई सहयोगी महिलाओं से प्रेम संबंधों के किस्से चटखारे लेकर कहे-सुने जाते थे. लेकिन इससे उनका करियर नहीं बरबाद हुआ. एडविना के साथ उनके रिश्तों की खूब चर्चा हुई. सारी दुनिया इसके बारे में जानती थी. उनका ये लगाव पंडित नेहरु के आखिरी सांस लेने तक बना रहा. क्या वो पाप था?

आशुतोष ने आगे लिखा तिहास इसका भी गवाह है कि 1910 में कांग्रेस के बड़े नेता सरला चौधरी से गांधीजी के रिश्तों को लेकर चिंतित थे, सरला रविंद्र नाथ टैगोर की दूर की रिश्तेदार थीं. गांधी जी ने खुद स्वीकार किया था कि सरला उनकी आध्यात्मिक पत्नी थीं। कस्तूरबा गांधी इससे बेहद दुखी थीं. सी राजगोपालचारी और दूसरे वरिष्ठ नेताओं को इस मामले में दखल देनी पड़ी. इन लोगों ने गांधीजी को सरला से दूरी बनाने के लिए समझाया बुझाया. ब्रम्हचर्य से अपने प्रयोग के लिए गांधी जी बाद के दिनों में अपनी दो भतीजियों के साथ नंगे सोते थे; नेहरू ने उन्हें समझाया कि ऐसा न करें वर्ना देश उनके खिलाफ हो जाएगा, मगर गांधी नहीं माने.

इस बब्लॉग के बाद आशुतोष को विरोध का सामना करना पड़ रहा हैं. गांधीजी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने इसे आशुतोष का नैतिक पतन बताया है. तुषार गांधी ने कहा कि मुझे अफसोस है कि आशुतोष ने ऐसा कहा. उनके जैसे प्रतिष्ठित आदमी का ऐसी बात करना शोभा नहीं देता. अपनी मंत्री का बचाव करने के लिए बापू को शामिल करना उचित नहीं है.

वहीँ इस बयान की आलोचना करते हुए बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने फेसबुक पर पोस्ट किया हैं, जिसमेें उन्होंने लिखा हैं कि आशुतोष का बयान निर्लज्जता की पराकाष्ठा है. साथी के कुकर्मो पर परदा डालने के लिए राष्ट्रपिता पर कीचड़ उछालने के इस प्रयास की जितनी निन्दा की जाए कम हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें