नई दिल्ली | बड़ी उम्मीदों और बड़े बहुमत के साथ केंद्र की सत्ता पर काबिज हुई मोदी सरकार देश की उम्मीदो पर खरा उतरती नजर नही आ रही है. देश में फ़िलहाल ऐसी कई समस्याए है जिनका जनता से सीधा सरोकार है.  ये समस्या समय बढ़ने के साथ विकराल रूप ले रही है. लेकिन मोदी सरकार इन मुद्दों को हल करने की और बिलकुल भी गंभीर नही दिखाई दे रही है. जिससे जनता में भी सरकार के प्रति रोष उत्पन हो रहा है.

जिसका नतीजा यह है की देश में मोदी सरकार की लोकप्रियता घटने लगी है. खुद आरएसएस ने इस बात को स्वीकार किया है. यही नही उन्होंने बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं को इसके प्रति आगाह भी किया है. द टेलीग्राफ की खबर के अनुसार आरएसएस ने अपने विभिन्न संगठनों के जरिये सरकार का फीडबैक लिया है. फीडबैक में यह बात निकलकर सामने आई है की जनता में मोदी सरकार के प्रति रोष बढ़ रहा है.

आरएसएस ने बीजेपी को चेताते हुए बताया की आर्थिक सुस्ती , बेरोजगारी और नौकरिया छिनने , विफल हुई नोट बंदी और बदहाल होती किसानो की हालत से जनता में निराशा बढ़ी है. फ़िलहाल आम जनता मोदी सरकार को लेकर असुविधाजनक सवाल और बहस कर रही है. हालाँकि आरएसएस का कहना है की प्रधानमंत्री मोदी अभी भी जनता के बीच लोकप्रिय बने हुए है लेकिन आगामी लोकसभा चुनावो में इसका लाभ बीजेपी को मिलता नही दिख रहा है.

आरएसएस ने बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर उनको आगाह करते हुए कहा की 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी भी जनता के बीच काफी लोकप्रिय थे लेकिन फिर भी बीजेपी चुनाव हार गयी. ऐसी ही हालात फ़िलहाल भी दिखाई दे रहे है. माना जा रहा है की आरएसएस के कई संगठन मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों से खुश नही है. इसलिए भारतीय मजदुर संघ ने मोदी सरकार के खिलाफ 17 नवम्बर को दिल्ली में प्रदर्शन करने का फैसला किया है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE