अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने इलाहाबाद में अपनी कार्यकारिणी की बैठक के बाद देश के 14 फर्जी बाबाओं की सूची जारी की है. इसमें राम रहीम,आसाराम, नारायण साईं, रामपाल, निर्मल बाबा, राधे मां, सचिन दत्ता, असीमानंद सहित 14 बाबाओं के नाम शामिल हैं.

इस बैठक में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने संत की उपाधि देने के लिए एक प्रक्रिया तय करने का फैसला किया है ताकि गुरमीत राम रहीम सिंह जैसे लोगों को इसका गलत इस्तेमाल करने से रोका जाए.

और पढ़े -   सुब्रमण्यम स्वामी ने की हिन्दुओं से अपील - मुस्लिमों में डाले फुट, करे एकता को खत्म

फर्जी बाबाओं की इस सूची में  बाबा रामदेव का नाम न होने पर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह भड़क उठे है. सोमवार को अखाड़ा परिषद की सूची में बाबा रामदेव का नाम न होने पर एक के बाद एक चार ट्वीट किए. जिसमे उन्होंने लिखा कि ‘सम्माननीय अखाड़ा परिषद ने इस सूची में बाबा रामदेव का नाम नहीं रखा. निराशा हुई. पूरे देश को ठग रहा है. नकली को असली बताकर बेच रहा है.’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “मैं सम्माननीय अखाड़ा परिषद से पूछना चाहता हूं, क्या मनु स्मृति में किसी भगवा वस्त्र पहनने वाले को व्यापार करने की स्वीकृति है?”

और पढ़े -   सहारनपुर की आड़ में थी बीजेपी की और से मेरी हत्या कराने की साजिश: मायावती

साथ ही उन्होंने लिखा है, “मैं सम्माननीय अखाड़ा परिषद से विनम्र अनुरोध करूंगा कि वे इस सूची में बाबा रामदेव का नाम भी जोड़े, अन्यथा यही मानूंगा कि वे भी रामदेव के धन से प्रभावित हो गए.”


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE