महाराष्ट्र: श‍िवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कहा कि बीजेपी के सीनियर नेता मोदी के सत्ता में आने के बाद से ही प्रधानमंत्री मोदी को ईश्वरीय अवतार बता रहे  हैं, लेकिन ये अपनी-अपनी श्रद्धा का विषय है क्यूंकि तमिलनाडु में भी जयललिता को उनके समर्थक उन्हें देवी मानते है। जब बीजेपी ने मोदी को ईश्वर बताया ही है तो उसका उत्सव, मंदिर बनना ही हैं।

और पढ़े -   कोविंद के समर्थन पर बोले लालू - 'आरएसएस की राह पर चल दिए अब नीतीश कुमार'

udhav-650_650x488_61431800574

शिवसेना का कहना है कि बीजेपी नेता वेंकैया नायडू ने जानकारी दी है कि केंद्र सरकार की योजनाओं और सफलताओं का प्रचार होना चाहिए इसलिए किस भी थ‍िएटर में फिल्म शुरू होने से पहले मोदी सरकार की सफलता की तस्वीर पर्दे पर दिखाना अनिवार्य किया गया है।

शिवसेना ने इस पर तंज करते हुए कहा कि अब प्रधानमंत्री को ईश्वर का रूप देंगे तो ऐसा तो होना ही था।  इसलिए अयोध्या में राम मंदिर भले ही न बनाया जाए, लेकिन ऐसा माहौल रहा तो मोदी का मंदिर जरूर बना दिया जाएगा।  सामना में लिखा गया है कि प्रधानमंत्री यानी ईश्वर को झांकी में बैठाकर उसका उत्सव मनाना भक्तों के लिए आसान होता है, लेकिन उत्सव में भगदड़ मचने तथा आग लगने से आम जनता झुलसती है।

और पढ़े -   नायडू के बयान पर भड़के केजरीवाल, कहा - अमीरों की कर्जमाफी फैशन नजर नहीं आती

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE