रायपुर। देशभर में भारत माता की जय नहीं बोलने पर मचे विवाद के बीच शनिवार को भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में प्राण प्रिय नारों से खिलवाड़ करने वाले समूहों से सख्ती से निपटने की बात कही गई। प्रदेश कार्यसमिति के राजनीतिक प्रस्ताव में वंदे मातरम और भारत माता की जय जैसे नारों से खिलवाड़ करने वालों पर कार्रवाई का एकमत से समर्थन किया गया और कहा गया कि जो भी भारत माता की जय नहीं बोलता है, उसे देश में रहने का कोई हक नहीं है।

छत्तीसगढ़ देश में भाजपा का पहला प्रदेश संगठन है, जहां प्रदेश कार्यसमिति के राजनीतिक प्रस्ताव में भारत माता की जय को शामिल किया गया है। राजनीतिक प्रस्ताव के प्रस्तावक विधायक और प्रदेश प्रवक्ता शिवरतन शर्मा और समर्थक प्रदेश महामंत्री गिरिधर गुप्ता थे।

भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार प्रदेश कार्यसमिति में भारत के स्वाभिमान से जुड़े मुद्दों को प्रमुखता से उठाने का फैसला किया गया। राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया कि विदेशी संसाधनों के बल पर दिल्ली से लेकर देशभर में भ्रम फैलाया जा रहा है। कथित बौद्धिकों की जमात अपनी बौखलाहट में राष्ट्र और संविधान के खिलाफ विष उगल रही है। प्रदेश कार्यसमिति से पहले पत्रकारों से चर्चा में भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडे ने कहा कि भारत माता की जय नहीं बोलने वाले देशद्रोही हैं।

इन लोगों को देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है। सरोज के इस बयान का भाजपा के प्रदेश प्रभारी डॉ अनिल जैन ने भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि संघ और भाजपा के बनने से पहले भी लोग भारत माता की जय बोलते थे। भारत माता की जय बोलना विश्वास का प्रतीक है। जैन ने कहा कि देश में विकास की दिशा से भटकाने के लिए विरोधी दल इस तरह के बयान दे रहे हैं, जिसे भाजपा कभी सफल नहीं होने देगी। (Naidunia)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें