कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए आरोप लगाया कि वह कालाधन वापस लाने के बड़े वादे करते हैं।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए आरोप लगाया कि वह कालाधन वापस लाने के बड़े वादे करते हैं। उन्होंने पूछा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के बेटे का नाम ‘पनामा पेपर्स’ में आने पर उन्होंने मामले की जांच क्यों नहीं कराई। राहुल ने असम विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 11 अप्रैल को यहां एक चुनावी रैली में कहा, ‘पनामा पेपर लीक हो गए हैं।

पनामा में रखे गए काले धन के बारे में कई नाम उजागर हुए हैं। इसमें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के बेटे अभिषेक सिंह का पनामा में खाता होने का भी जिक्र है।’ राहुल ने कहा, ‘मोदी विदेशों में रखे काले धन को वापस लाने के आपसे बड़े वादे करते हैं। उन्हें कम से कम बताना चाहिए कि उनमें मुख्यमंत्री के बेटे का नाम आने पर जांच के आदेश क्यों नहीं दिए गए।’ उन्होंने कहा कि संसद में उन्होंने मोदी से पूछा कि आइपीएल के पूर्व प्रमुख ललित मोदी को वापस देश क्यों नहीं लाया गया जो देश से भाग गए हैं।

उन्होंने कहा, ‘मोदी जी ने जवाब में एक भी शब्द नहीं कहा।’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘विजय माल्या ने देश छोड़ने से पहले संसद भवन में वित्त मंत्री अरूण जेटली से मुलाकात की थी। हजारों रुपए की चोरी करने वाले ललित मोदी भी देश से बाहर हैं।’ उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार काला धनजमा करने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। राहुल ने कहा, ‘जेटली हाल में नया ‘फेयर एंड लवली’ सिस्टम लाए थे जहां कोई भी गैंगस्टर, गुंडा, नशा तस्कर सरकार को मामूली कर देकर इसे उजला कर सकता है।’ राहुल ने कहा कि मोदी ने कालाधन वापस लाने के बारे में लोकसभा चुनाव में केवल गलत वादे किए। उन्होंने कहा, ‘मोदी के आश्वासन के मुताबिक किसी भी भारतीय के बैंक खाते में 15 लाख रुपए नहीं आए।’

पनामा पेपर्स गोपनीय दस्तावेज हैं, इसमें इस बात का उल्लेख है कि किस तरह धनी लोगों ने अपने धन को विदेशों में छुपा रखा है। दमदमा में एक अन्य चुनावी रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि इस बार असम विधानसभा चुनाव में विपरीत विचारधारा के दो दल चुनाव लड़ रहे हैं। राहुल ने कहा, ‘कांग्रेस भाईचारे की भावना के साथ शांति और विकास में विश्वास करती है। दूसरी तरफ भाजपा, आरएसएस हैं, जो विभाजनकारी राजनीति में शामिल हैं और केवल हिंसा की बात करते है, एक भारतीय को दूसरे से लड़ाते हैं, हिंदुओं को मुसलमानों से लड़ाते हैं।’ राहुल ने दावा किया कि जिस राज्य में भी भाजपा की सरकार बनती है, वहां हिंसा होती है। उन्होंने कहा, ‘शांतिपूर्ण और विकसित हरियाणा में सत्ता में आने के पांच-छह महीने के अंदर ही उन्होंने एक जाट को दूसरे जाट से लड़ाया।’

उन्होंने कहा कि 15 साल पहले जब भाजपा की वर्तमान चुनाव सहयोगी अगप राज्य में सत्ता में थी और भगवा दल की केंद्र में सरकार थी तो केवल बुरी खबरें आती थीं, हिंसा और लोगों की मौत की। इसके बाद कांग्रेस सत्ता में आई और शांति बहाल की।’ उन्होंने आरोप लगाए कि अगप के शासनकाल में असम में प्रगति और विकास नहीं हुआ। उन्होंने पूछा, ‘अब वे आकर आपसे कह रहे हैं कि सत्ता में वापस लाइए। उन्हें वोट क्यों दें जब वे असम में विकास नहीं कर सकते?’ राहुल ने मतदाताओं से कहा, ‘मोदी से वापस जाने के लिए कहिए और हम केवल तरुण गोगोई (मुख्यमंत्री) को चाहते हैं, जो हमारे लिए काम करते हैं। हम पांच-छह उद्योगपति दोस्तों वाले सूट बूट की सरकार को नहीं चाहते बल्कि गरीबों, किसानों, कामगारों, पिछड़े लोगों की सरकार चाहते हैं।’

राज्य में कांग्रेस के कार्यों के बारे में राहुल ने कहा कि राज्य के लिए सबसे बड़ा उपहार शांति लाना है। राहुल ने कहा, ‘असम में 15 इंजीनियरिंग कॉलेज बने हैं, चार लाख युवकों को रोजगार प्राप्त हुआ है, इंदिरा आवास योजना के तहत 60 लाख घर बने हैं, लोगों की आय छह हजार रुपए से बढ़कर 24 हजार रुपए हो गई है, सड़कों को छह हजार किलोमीटर से बढ़ाकर 24 हजार किलोमीटर किया गया है, तीन मेडिकल कॉलेज बनाए गए हैं। इससे राज्य में तीन गुना ज्यादा डॉक्टर उपलब्ध हैं।’ कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वह विकास की प्रक्रिया को जारी रखेगी और असम में युवकों के लिए और रोजगार सुनिश्चित करेगी।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने खरुपेटिया में एक अन्य चुनावी रैली में आरएसएस पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया, ‘नागपुर के पास पूरे देश पर केवल विचारधारा, केवल एक भाषा थोपने का विचार है। लेकिन कांग्रेस ऐसा नहीं होने देगी।’ प्रधानमंत्री पर हमला तेज करते हुए राहुल ने कहा, ‘मोदी लगातार मेक इन इंडिया का नारा लगाते हैं। लेकिन कुछ नहीं हुआ।’ उन्होंने कहा कि खाद्य सामग्री के दाम में बढ़ोतरी हुई है। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाए, ‘मोदी कीमत घटाने की बात कभी नहीं करेंगे।’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘कच्चे तेल की कीमत में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आई कमी से सरकारी खजाने में बच रहे धन का इस्तेमाल वह कीमतों को कम करने में कभी नहीं करेंगे क्योंकि धन उनके सूट बूट उद्योगपति दोस्तों के पास जा रहा है।’

राहुल ने वादा किया कि हर प्रखंड में कोल्ड स्टोरेज बनाए जाएंगे ताकि किसानों को उनके उत्पाद की अच्छी कीमत मिले, उनके लाभ के लिए कृषि बैंक बनाए जाएंगे, बुरे समय में मुआवजे के लिए बीमा योजना लाई जाएगी। इसके अलावा प्रति वर्ष ढाई लाख रुपए से कम आय वाले लोगों को असम के अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सा उपलब्ध कराई जाएगी। (jansatta.com)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें