पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री तथा तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने एक बार फिर से नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया है. उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विदेशों से कालाधन लाने के वादे को पूरा नहीं कर पाये इसलिए नोटबंदी का स्वांग रचा गया.”

तृणमूल कांग्रेस की ओर से आज यहां जारी एक बयान के अनुसार बनर्जी ने कहा ‘वह कालेधन, भ्रष्टाचार के सख्त खिलाफ हैं लेकिन आम लोगों, छोटे व्यापारी को लेकर काफी चिंता है कि वह आने वाले दिनों में वे लोग कैसे अपने जरूरत की सामानों को खरीदेंगे. इस वित्तीय उथल-पुथल और मुसीबत से आम लोगों का नुकसान होगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विदेशों से कालाधन लाने के वादे को पूरा नहीं कर पाये इसलिए नोटबंदी का स्वांग रचा गया.”

और पढ़े -   सियासी नक़्शे पर बढ रही बीजेपी पर हो रही धनवर्षा, पिछले चार सालो में मिला 706 करोड़ रूपए चंदा

बनर्जी ने कहा कि हम प्रधानमंत्री से जानना चाहते हैं कि हमारे सबसे गरीब भाई बहनें जिन्होंने एक सप्ताह कड़ी मेहनत से 500 रुपये मजदूरी हासिल की है, क्या वह आटा, चावल खरीद पायेंगे. यह एक बेरहम और आम लोगों, मध्यम वर्ग, कृषि सहकारी समितियां, चाय उद्यान के कामगारों, असंगठित श्रमिक क्षेत्र, दुकानदार, किसान, छोटे व्यवसायी सभी के लिए बुरी तरह से झटका है. इसका अंजाम सभी को भुगतना होगा और लोग भुखमरी के कगार पर आ जाएंगे.

और पढ़े -   स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में कुर्सी न मिलने पर भडके बीजेपी विधायाक बोले, मैं अब भी गुलाम

उन्होंने कहा कि तृणमूल का मतलब जनसाधारण है. यह लोगों की आवाज है। नोटबंदी से दो से अधिक लोगों की मौत हो गयी है. इसमें अलग-अलग जाति, धर्मों के लोग हैं. ये न केवल दुखद है बल्कि अर्थव्यवस्था को खत्म करने वाला है. साल में तीन महीने दिसंबर से फरवरी तक निर्माण तथा परियोजनाओं के विकास सबसे अधिक अच्छा समय होता है. सब कुछ बंद हो गयी, विकास रूक गया. चाय बागान तथा जूट मिल के मजदूर को वेतन नहीं मिल सका. परिवहन सेक्टर में काफी नुकसान हुआ.

और पढ़े -   संघ पर राहुल गाँधी के वार से बोखलाई बीजेपी, संघ नेता भी हुए लाल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE