कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राष्‍ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले कहा कि राष्ट्रपति चुनाव संकीर्ण मानसिकता वाली साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ एक जंग है. विपक्षी दलों के नेताओं से बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि हमारी यह बैठक न सिर्फ देश के बहुलतावादी लोकतंत्र की रक्षा के लिए है, बल्कि हमारी साझा सोच को भी दर्शाती है.

उन्हों विपक्षी नेताओं को संबोधित करते हुए सोनिया ने कहा कि इन मुकाबलों में संख्याबल उनके खिलाफ हो सकता है, लेकिन लड़ाई लड़ी जाएगी और जमकर लड़ी जाएगी. इस दौरान राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार मीरा कुमार और गोपाल कृष्ण गांधी भी मौजूद रहे.

और पढ़े -   गुजरात में बीजेपी विधायक की मांग, हिन्दू इलाके में मुस्लिमो को घर खरीदने की नही मिले इजाजत

सोनिया ने कहा कि राष्‍ट्रपति और उपराष्‍ट्रपति देश के संवैधानिक प्रमुख होते हैं. संविधान और कानून की रक्षा, सुरक्षा और संरक्षण करना इनके जिम्‍मे होता है. उन्‍होंने कहा, ‘मीराजी और गोपालकृष्‍णजी दोनों हमारे संभावित श्रेष्‍ठ राष्‍ट्रपति और उपराष्‍ट्रपति होंगे. संकटों से घिरे हमारे देश को बाहर निकालने में ये सक्षम हैं.’

सोनिया ने आगे कहा, ‘इस तरह के मुकाबलों में संख्‍या हमारे खिलाफ है लेकिन लड़ना जरूरी है और पूरी मेहनत से लड़ना चाहिए. ‘सोनिया गांधी ने देश के मौजूदा हालात को लेकर भी चिंता जाहिर की. उन्होंने कहा कि ये बेहद दुखद है कि आज देश का संविधान और कानून खतरे में है.

और पढ़े -   ट्रिपल तलाक पर कानून लाने से पहले सभी दलों से करेंगे चर्चा: मुख्तार अब्बास नकवी

सोनिया गांधी ने बीजेपी को निशाने पर लेते हुए कहा कि सनस्क्रीन और फूट डालने वाली विचारधारा पर देश नहीं छोड़ा जा सकता. सोनिया ने कहा कि ऐसे लोग सांप्रदायिक सोच थोपना चाहते हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE