अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंचे राहुल गांधी से एक सभा के दौरान पुलिस ने माइक छीन लिया. प्रशासन का कहना था कि राहुल गांधी ने सभा करने की इजाजत नहीं थी जो कि आचार संहिता का उल्लंघन है.

बिना इजाजत सभा करने पर सलोन में प्रशासन ने राहुल गांधी से माइक छीना

पुलिस के इस कदम से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में माहौल गरमा गया हालांकि कांग्रेस के नेताओं ने थोड़ी ही देर में मामला संभाल लिया. इसके बाद राहुल गांधी ने बिना माइक के बोलते हुए कहा कि ‘आप..देख रहे हैं मोदी सरकार मुझे बोलने से भी रोक रही है. मैं कहीं भी जाता हूं तो मेरी आवाज दबाने की कोशिश की जाती है. कई जगह पर तो पुलिस मेरा माइक बंद करवा देती है. आरएसएस के खिलाफ बोलने वालों को देशद्रोही कहा जाता है.’

और पढ़े -   सड़कों पर शादियों से परहेज नहीं, आखिर नमाज से क्यों: अखिलेश यादव

आपको बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी लखनऊ में दलित सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद अमेठी में सलोन में जनसंपर्क शुरू किया था. इसके बाद सूची गांव में वो बिना इजाजत के बाद सभा करने लगे.

वहीं डीआईजी का कहना है कि माइक छीनने के बात गलत है मौके पर एसीडीएम ने उनसे बात करके खुद माइक हटाया था.

और पढ़े -   सियासी नक़्शे पर बढ रही बीजेपी पर हो रही धनवर्षा, पिछले चार सालो में मिला 706 करोड़ रूपए चंदा

राहुल ने की जबरन सभा

एसडीएम देवेंद्र मिश्रा का कहना था कि विधान परिषद के चुनाव के चलते राहुल को सिर्फ सलोन तक सभा करने की इजाजत दी गई थी. लेकिन इसके बाद भी वो बिना परमिशन के सभा करने लगे तो हमें रोकना पड़ा. (pradesh18)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE