नई दिल्ली | पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदम्बरम ने मोदी सरकार द्वारा लागु किये गए जीएसटी बिल को सबसे बुरा कानून बताया है. उन्होंने कहा की यह वह बिल नही है जिसे कांग्रेस लेकर आ रही थी. इस दौरान चिदम्बरम यह बताना नही भूले की उस समय बीजेपी ने इस बिल का विरोध किया था. चिदम्बरम ने मौजूदा जीएसटी से महंगाई बढ़ने की भी आशंका व्यक्त की.

जीएसटी बिल लागु होने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए पी चिदम्बरम ने कहा की इस बिल से लघु एवं मंझले व्यापारी सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे. वो अभी भी इसके लिए तैयार नही है इसलिए उन्होंने सरकार से कुछ दिन की मोहलत और मांगी थी. लेकिन सरकार ने उनको और समय देने से इनकार कर दिया. इसके अलावा सरकार ने करीब 80 फीसदी वस्तुओ और सेवाओं पर टैक्स लगा दिया.

और पढ़े -   बिहार में हुए सर्जन घोटाले के एक आरोपी नाजिर महेश की मौत, लालू ने नितीश पर उठाये सवाल

चिदम्बरम ने आगे कहा की सरकार के इस कदम से महंगाई बढ़ने का खतरा पैदा हो गया है. सरकार बताये की उन्होंने इससे निपटने के लिए क्या तैयारी की है? इसके अलावा इस बिल से इंस्पेक्टर राज बढ़ने का भी खतरा बढ़ गया है. क्योकि मुनाफाखोरी रोकने के लिए अधिकारी व्यापारियों का उत्पीडन भी कर सकते है. इसलिए आशंका है की जीएसटी की वजह से उन्हें भारी नुक्सान उठाना पड़ सकता है.

और पढ़े -   पोस्टर जारी कर सभी विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील, मायावती और अखिलेश दिखे साथ साथ

चिदम्बरम ने यूपीए सरकार द्वारा लागू किये जाने वाले जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा की यह वो जीएसटी नही है जिसे हमारी सरकार लागु करने वाली थी. उस बिल का ड्राफ्ट विशेषज्ञों ने तैयार किया था. जो बिल मोदी सरकार लेकर आई है यह सबसे बुरा कानून है. हम उस बिल के लिए काफी होम वर्क किया था. लेकिन उस समय बीजेपी ने जीएसटी का बड़े पैमाने पर विरोध किया था. बताते चले की कांग्रेस शुरू से यह कहती आई है की यह असली मसौदे से अलग बिल है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE