Owaisi_1

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार द्वारा हलफनामा दाखिल कर तीन तलाक का विरोध किये जाने पर हैदराबाद से सांसद और आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार धार्मिक मामलों ने न ही कूदे तो अच्छा होगा.

उन्होंने कहा कि सरकार धर्म के मामले में दखल न दे. देश में कई जाति, संप्रदाय और इलाके लोग रहते हैं. सबकी अपनी संस्कृति है ऐसे में यहां समान आचार संहिता लागू नहीं की जा सकती है. इस दौरान उन्होंने तीन तलाक की व्यवस्था को खत्म करने की कोशिशों पर भी विरोध जताया.

और पढ़े -   पोस्टर जारी कर सभी विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील, मायावती और अखिलेश दिखे साथ साथ

ओवैसी ने आगे कहा कि यूनिफार्म सिविल कोड संविधान के खिलाफ है, इसलिए यह मंजूर नहीं है. यह देश की विविधता के खिलाफ है. ओवैसी ने तीन तलाक के मुद्दे पर जनमत संग्रह कराने की मांग की है.

उन्होंने ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा लॉ कमीशन के बहिष्कार के सवाल पर कहा, ’हमारी पार्टी ने लॉ कमीशन के सवालों का जवाब देने का निर्णय लिया है। मेरे विचार से आयोग के ये सवाल यूनिफार्म सिविल कोड के पक्ष में है.

और पढ़े -   कश्मीर पर मोदी के 'गोली और गाली' वाले बयान पर भडकी शिवसेना कहा, केवल धारा 370 हटाना ही एक मात्र हल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE