aziz qur

यूपी, उत्तराखंड और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल डॉक्टर अजीज कुरैशी ने स बात पर ऐतराज जताया कि मौलाना कल्बे जव्वाद, मौलाना तौकीर रजा और कुछ अन्य उलेमा मिलकर मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण की तैयारी कर रहे हैं उनका कहना है मुस्लिम गोलबंदी वो भी मुस्लिम पार्टी के बैनर तले चुनाव को हिन्दू मुस्लिम बनाएगी और इसका सबसे ज्यादा नुकसान मुस्लिम को होगा. उन्होंने कहा कि धर्मगुरुओं को राजनीति में नहीं पड़ना चाहिए.

कुरैशी ने ओवैसी पर मुस्लिम और सेक्युलर वोटों को बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि ओवैसी सांप्रदायिक ताकतों को शक्ति देने की साजिश कर रहे हैं। कुरैशी ने कहा कि देश के मुसलमानों को न तो विधानसभा और लोकसभा के टिकट चाहिए और न ही मंत्रिमंडल में जगह, वह तो केवल आबादी के अनुपात में तृतीय और चतुर्थ वर्ग में सरकारी नौकरी चाहते हैं.

शुक्रवार को लखनऊ में मौजूद डॉक्टर कुरैशी ने कहा, ‘मुसलमान सिर्फ अपनी जान-माल और इज्जत की सुरक्षा की गारंटी चाहते हैं. मुस्लिम और सेक्युलर वोट न बंटे इसलिए उन्होंने बिहार की तर्ज पर यूपी विधानसभा चुनाव में महागठबंधन की वकालत की.

पूर्व राज्यपाल ने बीजेपी नेता अटल बिहारी बाजपेयी और राजनाथ सिंह को सेक्युलर नेता बताया। एक सवाल के जवाब में कुरैशी ने कहा मोदी पहले तो सेक्युलर नहीं थे, लेकिन अब उनके बयान सेक्युलर नेताओं जैसे ही हैं. उन्होंने मुस्लिम उलेमाओं से राजनैतिक मामलों में हस्तक्षेप न करने की अपील की और कहा कि उन्हें ऐसी बात नहीं करनी चाहिए जिससे भाई-भाई आपस में लड़ें.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें