shivpal

उत्तरप्रदेश की सत्ता संभाल रही समाजवादी पार्टी ने नोटबंदी के कारण पैदा हुई परेशानी के कारण राज्य में 28 लोगों आत्महत्या करने का दावा किया हैं.

राज्य में पार्टी के प्रदेशअध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने ट्वीट कर कहा कि ‘नकदी न होने से प्रदेश में 28 लोग आत्महत्या कर चुके हैं. यह बहुत दुखद है. प्रधानमंत्री को आम जनता और किसानों के बारे में सोचना चाहिए. उन्होंने आगे कहा, प्रचलित नोटों के बंद होने से पूरे देश में अनिश्चितता का माहौल बन गया है.

इसके अलावा उन्होंने राज्य की जनता को भरोसा देते हुए कहा कि ‘‘समाजवादी पार्टी प्रदेश की जनता से अपील करती है कि निराश न हों. संकट की इस घड़ी में पूरी पार्टी प्रदेशवासियों के साथ खड़ी है.’’ यादव ने कहा, ‘‘रोजमर्रा की जिंदगी में छोटा-मोटा काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर बेरोजगार हो गए हैं. इन गरीब मजदूरों के पास न तो बैंक खाता होता है और न ही एटीएम कार्ड. इनका जीवन पूरी तरह से नकदी पर ही आधारित होता है. इनके सामने भूखों मरने की नौबत आ गई है. साथ ही इनका भविष्य भी अंधकारमय हो गया है. केन्द्र सरकार ने अचानक करेंसी बंद करने का फैसला तो ले लिया लेकिन गरीब मजदूरों के बारे में कुछ नहीं सोचा.’’

उन्होंने आगे कहा, बाजार में नगदी की कमी से सब्जी, फल आदि बेचने वाले और सड़क किनारे रेहड़ी पटरी लगाकर अन्य सामान बेचकर अपनी आजीविका चलाने वाले लोगों के सामने भी जीवन यापन की समस्या पैदा हो गयी है। किसान की फल सब्जी की जो फसल  तैयार है वह सड़ रही है। किसान को होने वाले नुकसान की भरपाई नहीं हो पायेगी।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें