akhil

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नोटबंदी से पैदा हुए हालात के लिए प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने बिना तैयारी के बड़े नोट का चलन बंद कर देश के गरीबों, किसानों और मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा कर दिया है.

अखिलेश ने दावा किया कि बिना तैयारी के सबकुछ बदल डालने से देश की अर्थव्यवस्था पिछड़ जाएगी और देश को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, हालात सामान्य होने में छह महीने से साल भर का समय लगेगा, तब तक गरीबों का क्या हाल होगा?

उन्होंने कहा ‘सोचिये अगर किसान बर्बाद हो गया तो अर्थव्यवस्था के तमाम आंकड़े पीछे हो जाएंगे. रोजगार पर सबसे पहले असर पड़ेगा. अब तो पूरा देश यह कह रहा है कि सरकार ने बिना तैयारी के सबकुछ बदल दिया. अगर आप पर भरोसा कर लिया और पड़ोसी देशों से कुछ मामला बन गया और आपकी तैयारी नहीं होगी तो अभी तो पैसे में फंसाया है, आने वाले समय में हो सकता है आप देश को फंसा दें. आपकी तैयारी नहीं होगी तो देश के सामने संकट पैदा होगा.’

अखिलेश ने कहा कि यह कोई प्राकृतिक आपदा नहीं, बल्कि सरकार का बनाया संकट है. सबसे ज्यादा परेशानी किसानों के सामने है. किसानों को उम्मीद थी कि पानी अच्छा बरस गया है और अच्छा बीज मिल गया है, तो अच्छी फसल होगी. लेकिन केंद्र के इस कदम ने उन्हें सदमा दे दिया है. केंद्र सरकार अगर पैसा नहीं दे सकती तो कम से कम सहकारी बैंकों की मदद करे ताकि किसानों को फसल बुआई और अन्य कृषि कार्यों के लिये पैसा मिल सके.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें